Hey, I am on Matrubharti!

वो सूर्य की किरणों सी पावन थी
हम पुरवैया के जैसे चंचल थे
वो फुलवारी का आकर्षण थी
हम एक अवांछित डंठल थे
देखा भी हो उसने कभी
हमे ऐसा कोई आभाष नहीं
दसवीं तक रहा यह मानसिक संबंध
मिलन की फिर रही कोई आस नहीं

अधेड़ शरीर-युवा मन, मिलन हुआ FB पर
संवाद कोई अभी भी नहीं, पूर्ण हुआ जीवन पर

-Sandeep Shrivastava

Read More

Kada, kitchen medicine, cow & self urine, hot water tea, yoga, HCQ, Zinc, Vit AtoZ, Sunlight, Rain, Ice, Halwa, Dry Fruit, Chyawanprash, Giloy, Hakim Lukman Ki Dawa, Holy Water, social media advise & medicine etc are accepted blindly to defeat corona except Vaccine. #coronavirus

-Sandeep Shrivastava

Read More

साहस है
विश्वास है
संयम है
सामर्थ्य है।
युद्ध है
विजय है
उत्सव है।।

-Sandeep Shrivastava

पुनः स्थापित करना है, अपने आराध्य धाम को।
माथे पे तिलक लगा लो, नमन करो श्री राम को।।
बाबा विश्वनाथ ने हमें, पावन-काशी बुलाया है।
असंभव सेवा का अवसर, प्रदान हमें कराया है।।
भक्ति और श्रद्धा से बने, पुण्य धाम भक्त वत्सल का।
माता गंगा में भी हो अब, संगम अश्रु - स्वेदजल का।।
यज्ञमय: हो चारों दिशाएं, आकाश में गूंजे नांद यही।
साधना करें अनीश्वर: की,चेतन हों वीरभद्र सभी।।

-Sandeep Shrivastava

Read More

नमन है इश्वर के बनाए हर उस कृति को जो घोर अंधकार और घनघोर बादलों के बाद भी आकाश में चमकते हुए प्रकट होते हैं।

-Sandeep Shrivastava

Read More

आ पास बैठ ज़रा मेरे तु, अपनी एक कहानी बना लूं मैं|
मानो चूम लूं जैसे तुझे मैं, एक ग़ज़ल तेरी भी गुनगुना लूं मैं।।
अधूरी प्यास लेके चला आया था तेरे दर से उस रात मैं,
फिर मिल एक बार तु मुझे, तेरी सारी बेवफाई भुला दूं मैं।।

-Sandeep Shrivastava

Read More

इतनी बड़ी आबादी मेरे शहर की,
सांपों का घर अब नहीं रही ज़मीनें|
एहतियातन हमने कमीजों से अपनी,
आज कटवा डाली हैं आस्तीनें||

-Sandeep Shrivastava

Read More

हम चलेंगे साथ में लेकर भगवा हाथ में
मातृभूमि के विषय रहेंगे हमारी बात में

राम की पावन गाथा गाएंगे हम प्रभात में
अपराह्न सुनेंगे गीता हम सरल अनुवाद में

मंत्रो-तीरों की ध्वनि बजेंगी संध्या वाद्य में
हर हुतात्मा का स्मरण करेंगे हम रात में

देखेंगे स्वप्न हम यही मां भारती की गोद में
जागेंगे कल सभी अखंड भारत की प्रातः में

Read More

कोरोना काल की सात्विक रेसिपीज़: Vegetarian and Jain Recipies of Corona Period (Hindi Edition) https://www.amazon.in/dp/B08GH58M8X/ref=cm_sw_r_other_apa_aWWAFb3T7RWK1

ऐ मुकीम-ए-दिल तेरी उदासी की वजह क्या है
अगर वजह हूँ मैं तो तु बता मेरी सज़ा क्या है

बस मुस्कानें ही तो मांगी थी तेरे लिये फ़लक से
सर्द जाम-ए-अश्क मैं तेरे भला मुझे मज़ा क्या है

कैसे मनाऊं खुशिओं के तेरे आँगन में लाने को
ज़ुबां पर तो कभी ला मेरे लिए तेरी रज़ा क्या है

दिल दुखा के खुदका क्यों मुझे तड़फ़ाते हो
मेरा भी दिल है,यह सितमगर अदा क्या है।

Read More