Hey, I am on Matrubharti!

मिट्टी की है काया, मिट्टी में मिल जाएगी
‌ तेरा रूपया पैसा, महल अटारी ,
सब यहीं धरी रह जाएंगी
अंत समय में सुन ऐ मानव,
तेरी अच्छाई और सच्चाई ही
संग तेरे जाएंगी।
सरोज ✍️

-Saroj Prajapati

Read More

#विजय
जिस दिन आप अपने मन के भीतर बैठे
ईर्ष्या, द्वेष, असंतोष रूपी, शत्रुओं को पराजित कर दोगे
वास्तव में वही आपके जीवन की सबसे बड़ी जीत होगी।
सरोज ✍️

Read More

#विजय
अपनी अनंत इच्छाओं पर विजय पा लेना ही,
मनुष्य की सबसे बड़ी जीत है।
‌ सरोज ✍️

अनेकता में एकता का सूत्र है हिंदी
भावों का सहज सरल उदगार है हिंदी
हमारी संस्कृति की पहचान है हिंदी
हर भारतवासी का अभिमान है हिंदी
हमें गर्व से जीना सिखलाती है हिंदी।
सरोज ✍️

-Saroj Prajapati

Read More

#अस्थायी
अस्थाई है गुस्सा तेरा, स्थाई है पिया मोहब्बत मेरी
यूं ही रूठते मनाते, प्यार में बीते जिंदगी तेरी मेरी।
सरोज ✍️

Read More

#विश्वास
प्यार और विश्वास कभी नहीं निभते एकतरफा।।

#विश्वास
चाहे कितने भी हो मुश्किल हालात
ऐ मनुज रख खुद पर तू विश्वास
तेरी मेहनत से होगी हर मुश्किल आसां।।
सरोज ✍️

Read More

#संघर्ष
आंधियों से करता संघर्ष ,जल रहा है वो छोटा सा दिया
फैला राहों में उजियारा, अपने जीवन को सार्थक किया।
सरोज ✍️

Read More

#बेख़बर
हम हैं उसके दिवाने, है सारी दुनिया ये खबर
बस मेरा इश्क ही है, मेरी इबादत से बेखबर।।
सरोज ✍️

#बेख़बर
जिसकी यादों में करवटें बदलते हैं हम रातभर
चैन से सोता है वो बेपरवाह, मेरा प्यार बेखबर।।
सरोज ✍️