human being, creative,

दुश्मनी तुझसे नहीं,तेरे इरादों से है
मोहब्बत खुद से नहीं,उन मुरादों से है
जो पूरी होती है,वतन पर मर मिट कर
इनका नाता तो,किए उन वादों से है





-Satish Malviya

Read More

ऐ वक्त, ज़रा अपना दिल
थाम के रखना
तू भले परख ले हमे
जितना है, परखना
हार मानने वाले तो हम
कतई नहीं हैं
पर याद रख, तेरी तो
फितरत ही है बदलना

-Satish Malviya

Read More

भले ही मेरे हाथ में, वो लकीरें ना हों
रुतबे, शोहरतें, दौलत के ज़खीरे ना हों
पर ईमान, और मेहनत के नगीने जो हैं मेरे पास
उन्ही से हैं ज़िंदा मेरी उम्मीदें और ये आस
कि मंजिले भी करेंगी इस्तकबाल मेरा
ना होगा कोई गिला ना कोई सपना अधूरा
क्योंकि हौसला है बुलंद, चाहे तकदीरें ना हों
हाथ तो हैं,भले उनमें वो लकीरें ना हों


-Satish Malviya

Read More

कितने भी नुकीले हों कांटे
उनकी क्या मजाल
की वो हमे
चुभ जाएं
अंगार हैं हम
कोई शमा की लौ नहीं
जो किसी की भी फूंक से
बुझ जाएं

-Satish Malviya

Read More

धड़कनों में, रूह में
ख़्वाबों में, ख़यालो में
बस गए थे, तुम जो मेरे
ज़िक्र में, सवालों में
ढूंढता हूं, तुमको हरदम
ढूंढ मै पाता नहीं
अक़्स तेरा गढ़ता रहता
ज़हन की दीवालों में

-Satish Malviya

Read More

सख़्त मिज़ाज, बेबाक अंदाज़
अड़ियल पन दिखाने का अलग ही मज़ा है
ऐसा करने से कुछ लोग जो आसमान में होते हैं
उन्हें भी ज़मीन
नजर आ जाती है

-Satish Malviya

Read More

ख्वाहिशें हैं उनकी
चांद छूने की
ये उनकी अदा,उनका मिज़ाज है
मगर ऐडी भी ऊंची
ना करना चाहें वो
हमें इससे थोड़ा
ऐतराज़ है


-Satish Malviya

Read More

वो वक्त ही था,
जिसने हमें
गिराया भी, संभाला भी

महक दी थी,
फ़ूल बनके
नोंक कांटे की, छाला भी


-Satish Malviya

बिखरे हुए तो
सितारे भी होते हैं
आसमां में
बस सिर्फ नज़रिया ही
ये निश्चित करता है
की देखना क्या है

-Satish Malviya

ये नेकी का हुनर
भी गजब है साहब
जिसे भी आता है
बड़ा सताता है




-Satish Malviya