human being, creative,

बिखरे हुए तो
सितारे भी होते हैं
आसमां में
बस सिर्फ नज़रिया ही
ये निश्चित करता है
की देखना क्या है

-Satish Malviya

ये नेकी का हुनर
भी गजब है साहब
जिसे भी आता है
बड़ा सताता है




-Satish Malviya

सुनो, ये फलक जो
सितारों से भरा है
गर काला ना होता
तो सितारों की
चमक की गवाही
भला कौन देता

-Satish Malviya

चंद सिक्कों को उछालो तो
घनघनाहट का शोर होता है
मिट जाती हैं खामोशियां
जश्नों चमन का दौर होता है
मुश्किलों से मिलती है राहते सुकून
काफिले जिन्दगी में
शोहरत का सवेरा होने के पहले
संघर्ष का अंधेरा घनघोर होता है

काबलित की लाठी साहस की शमशीर
मंजिलों तक पंहुचने में हौसलों का ज़ोर होता है

-Satish Malviya

Read More

आजादी तो बचपन में हुआ करती थी
जिसे चाहा उसे तुतलाती जुबान से पुकार कर
अपना बना लिया करते थे
अब तो हर ख्वाहिश को पूरा करने के लिए
गुलामी के वादे निभाने
और उस पर कर्ज भी चुकाने पड़ते हैं




any ways Happy Independence Day To All 😊

-- Satish Malviya

Read More

वो छिपाते हैं
पर बोल देती हैं आंखे
खरीदते हैं वो
पर मोल देती हैं आंखे
जाने कितने दर्द वो
ख़ुद में समाना चाहते हैं
उनके सारे भेद
पल में खोल देती हैं आंखे।

-Satish Malviya

Read More

गलियों में गूंजते हुए उस शोर की कसम
मुझे वो कटी हुई पतंग नही चाहिए
बस कोई वो बीता हुआ बचपन लौटा दे

-Satish Malviya

नाराज़गी इस बात की नहीं
की वो हमारे ना हुए
अफ़सोस तो इसका है
कि वो किसी के ना हुए।

-Satish Malviya

कांटों पे चलते हुए, एक मखमली एहसास है दोस्ती
पानी में डूबते हुए
ना डूबने की आस है दोस्ती।
यूं तो बहुत रिश्ते है,निभाने को इस जिंदगी में
फ़िर भी इन रिश्तों में से, सबसे खास है दोस्ती
Happy Friendship 🤝 Day dear all Friends 😊

-Satish Malviya

Read More

चंद सवाल हमारे ज़हन के दरवाज़े पर अक्सर खटखटाते हैं
फ़िर 🤔🤔🤔🤔
फ़िर क्या
तत्काल प्रभाव से हम
उन पर शायरियां बनाते हैं 😁😁😁

-Satish Malviya

Read More