Full story of my life...._ myself a half writer...

मेरी वफ़ा की अभी इक शाम बाक़ी हैं,
अभी मुझ पे लगाना तेरा इक इलज़ाम बाक़ी है।
छोड़ के जाने वाले ज़रा देखते तो जाओ,
अभी मेरा हश्र बाक़ी है मेरा अंजाम बाक़ी है।।

Read More

इक बार जो बिछड़ा मैंने फिर उसे मिलते नहीं देखा,
इश्क़-ए-जुदाई के जख्मों को फिर सिलते नही देखा।
कभी ना मरने की ख्वाहिश में जो मुरझा गए,
उन फूलों को शाख पर मैंने कभी खिलते नहीं देखा।।

Read More

क्या यू ही सारी उम्र गुजरेगी उसके वादे के ऐतबार में,
इक और बरस तन्हा बर्बाद हुआ उसके लौट आने के इन्तज़ार में,
अंदाज़ बदल गए या रुत बदल गई उसके रंग-ए-दिल की,
ज़ख्म छलकने लगे मेरे अश्क उमड़ने लगे अब इस अब्र-ए-बहार में....

✍️__satyendra

Read More

अगर फितरत में है तेरी बेवफ़ाई, तो मेरा दिल शौक़ से तोड़ जाना।
जी सकू मै फिर तेरे बग़ैर, बस इतना मुझको मुझमें छोड़ जाना।।

Read More

अब ये इल्ज़ाम ना लगाओ तुम तूफानों पर,
डूबते देखा हैं मैंने लोगों को अब किनारों पर,
ये हुस्न वालों ने गिराई बिजलियां जिन हजारों पर,
लुटते देखा हैं मैंने फिर से उन दीवानों को इशारों पर..

Read More

जीत का जश्न आज खुशियों की बारी,
सलाम यारो तुम्हारी कुर्बानी।।❤️
दे गए तुम हमको ये आजादी,
हस्ते हुए दे दी थी अपनी जिंदगानी।
भूलेंगे तुम को ना वादा हमारा हैं,
हर ज़िन्दगी पर एहसान तुम्हारा हैं।❤️
फूलों पर जैसे कांटो का सहारा हैं,
हर सांस पर अब नाम तुम्हारा हैं।।
खुले आसमान में तिरंगा फहराने की बारी है,
जीत का जश्न आज खुशियों की आज़ादी हैं।
सलाम यारो तुम्हारी कुर्बानी हैं।❤️
लफ्जो से बयां ना हो ये ऐसी कहानी है।
कभी भूलना ना इनको_कभी कहना ना इनको,
कि ये बातें पुरानी है।❤️
अपनी ज़िन्दगी पर आज इनकी मेहरबानी है,
हस्ते हुए दे दी कभी अपनी जिंदगानी है।
सलाम यारो तुम्हारी कुर्बानी हैं ❤️
जीत का जश्न आज खुशियों की आज़ादी हैं...🇮🇳🇮🇳


🙏स्वतंत्रता दिवस एवं रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏

Read More

जान-ए-बहार तुमने वो कांटे चुभोये हैं,
कि अब मैं गुलशनो को छूने से डर गया हूं।
मैं समझ रहा हूं कि अब तुम तुम ना रहें,
तुम भी सोच लेना कि अब मैं मर गया हूं।।

__✍️sk

Read More

बिना धुन के मैं तेरे गीत गाता रहूं,
दर्द सीने में है और मैं शोर मचाता रहूं।
ख्वाबों में तू बरसता रह शबनम बनकर,
और मैं सारी उम्र इसी बारिश में नहाता रहूं।।

✍️_satyendra

Read More

गली-गली में सारा दिन,दुख के कंकर चुनता हूँ।
इक गजब का आशिक हूं, बेमतलब ही अफसाने बुनता हूं।।

ये मोहब्बत है दोस्तों रंग जरूर लाती हैं,
किसी को जीना सिखा जाती है किसी को मार जाती हैं..