×

Full story of my life...._ myself a half writer...

एक दिलकश सावन...

इक बार मिली उनसे नज़रे जो फिर मिलने लगीं।
इस सावन मेरे इश्क की कलिया खिलने लगी।
खिलकर कलिया जब फूल बनकर चहकने लगी।
मेरे इश्क कि खुशबू हवाओं में महकने लगीं।।

मेरी सच्ची इब्तिदा जब हवाओं को समझ आने लगीं।
ले जाकर मेरी खुशबू, उनसे मेरा इश्क जताने लगी।
महसूस कर मेरे इश्क को वो खुद से एतबार करने लगी।
खामोश थी जो अब तलक वो नज़रे मुझसे बात करने लगीं।।

देख अकेला हम दोनों को बरसात भी बरसने लगी।
कड़क - कड़क के बिजलियां भी उनको डराने लगी।
कपकपी उनके सुर्ख होंठों कि मुझसे इजहार करने लगीं।
लगाई थी जो आग सावन ने, अब मुझे वो बेकरार करने लगी।

देख खूबसूरती मेरे यार की चांदनी भी शरमाने लगीं।
लिपटकर कुछ इस कदर मेरी बाहों में, वो खुद को भुलाने लगीं।।

सावन कि रुत साथ हमको,जाते- जाते दूर ले जाने लगीं।
पतझड़ आया जब आंखे हमारी, उस सावन की तरह बहने लगी।
उस सावन कि वो रुत, अब हर सावन याद बनकर आने लगी।
बात बहुत पुरानी है मगर आज भी सताने लगीं।
भीगा था जिस बारिश से इश्क में, वो भी अब बूंदों में तड़पाने लगीं...

_✍️satyenda kumar

#first_rain

Read More

वो चाँद है तो अक्स भी पानी में आएगा ,

किरदार ख़ुद उभर के कहानी में आएगा..

अदा आई जफ़ा आई ग़ुरूर आया हिजाब आया,

हज़ारों आफ़तें ले कर हसीनों पर शबाब आया..

✍️✍️

मिरा ज़मीर बहुत है मुझे सज़ा के लिए ,

तू दोस्त है तो नसीहत न कर ख़ुदा के लिए...

दुआओं में याद रखने वाले कई और हैं,
हो सके तुमसे तो वफाओं में याद रखना...

✍️✍️

ना इब्तिदा की खबर हैं, ना इंतिहा मालूम है।
रहा ये वहम की हम हैं, सो ये भी कहां मालूम हैं।।

🙏सुप्रभात🙏✍️

तेरी ख़ुशबू का पता करती है
मुझपे एहसान हवा करती है

दिल को उस राह पे चलना ही नहीं
जो मुझे तुझसे जुदा करती है..❤️❤️

Read More

अपने होने का कुछ एहसास, ना होने से हुआ।
खुद से मिलना मेरा, इक शख्स के खोने से हुआ।।

✍️✍️

अक्सर....

जिनके दिल अच्छे होते हैं,
उनकी किस्मत खराब होती हैं,