Hey, I am on Matrubharti!

*🌺प्रातःवन्दन🌺*
*अगर मैं सोचूं कि मुझे*
*किसी की भी ज़रूरत नहीं..*
*तो ये मेरा 'अहम' है*

*और अगर मैं सोचूं कि*
*सबको मेरी ज़रूरत है..*
*तो ये मेरा 'वहम' है🌹*

*सच तो ये है*
*हम तुम से ,तुम हम से*
*हम सब एक दूजे से हैं*
*यही जीवन का सच है*

*🙏सुप्रभात 🙏*
*आप का दिन शुभ हो*
🙏🏻जय सियाराम जी🙏🏻

Read More

*प्रेम के बिना जीवन उस वृक्ष की भांति है,जो फूल तथा फलों से रहित है*

*सुबह की "चाय" और बड़ों की "राय" समय-समय पर लेते रहना चाहिए। पानी के बिना, नदी बेकार है अतिथि के बिना, आँगन बेकार है। प्रेम न हो तो, सगे-सम्बन्धी बेकार है। पैसा न हो तो, पाकेट बेकार है। और जीवन में गुरु न हो तो जीवन बेकार है इसलिए जीवन में "गुरु"जरुरी है "गुरुर" नही"।*
*उनके लिये सवेरे नही होते, जो जिन्दगी मे कुछ भी पाने की उम्मीद छोड चुके है, उजाला तो उनका होता है, जो बार बार हारने के बाद कुछ पाने की उम्मीद रखे है।*
🙏 जय सियाराम जी 🙏

Read More

*प्रेम के बिना जीवन उस वृक्ष की भांति है,जो फूल तथा फलों से रहित है*

*सुबह की "चाय" और बड़ों की "राय" समय-समय पर लेते रहना चाहिए। पानी के बिना, नदी बेकार है अतिथि के बिना, आँगन बेकार है। प्रेम न हो तो, सगे-सम्बन्धी बेकार है। पैसा न हो तो, पाकेट बेकार है। और जीवन में गुरु न हो तो जीवन बेकार है इसलिए जीवन में "गुरु"जरुरी है "गुरुर" नही"।*
*उनके लिये सवेरे नही होते, जो जिन्दगी मे कुछ भी पाने की उम्मीद छोड चुके है, उजाला तो उनका होता है, जो बार बार हारने के बाद कुछ पाने की उम्मीद रखे है।*
🙏 जय सियाराम जी 🙏

Read More

जो भक्तिहीन, श्रद्धारहित और सर्वत्र संदिग्ध चित्तवाला है, उसे कल्याण की प्राप्ति नहीं होती, न ज्ञान होता है तथा उसका इहलोक और परलोक नष्ट हो जाता है।

।।जय सियाराम जी ।।

मङ्गलमय शुभप्रभात

Read More

*सुख और दुख में,*
*कोई ज्यादा भेद नहीं है……!*

*जिसे "मन स्वीकारे ,*
*वह सुख…….!*

*और जिसे न स्वीकारे*
*वह दुख…….....!!*

*सुप्रभात आपका दिन मंगलमय हो*

।।जय सियाराम जी ।।

Read More

*देखने के लिए इतना कुछ होते हुए भी अपने अंदर देखना सबसे बेहतर है।*

।। जय सियाराम जी ।।

*सुप्रभात आपका दिन मंगलमय हो*

Read More

हजार मील के सफर की शुरुआत
एक छोटे कदम से होती है….
मनुष्य वही श्रेष्ठ होता है जो
कठिनाईयों में भी राह निकाल लेता है |
।। जय सियाराम जी ।।

🙏🏻सुप्रभात🙏🏻

Read More

🌹☘️🌹☘️🌹☘️🌹☘️🌹☘️
*तीन ही चीजें ऐसी हैं, जिन्हें देने में किसी का कुछ नहीं जाता.*

*एक 'मुस्कुराहट 'और दूसरी 'दुआ 'और तीसरा "प्यार" .....*

*सोचिये कुछ जाता है क्या....नहीं ना ..हमेंशा बांटते रहिए ..हमेंशा बढ़ती रहेंगी*

🙂🙏 जय सियाराम जी ।।💐

Read More

🍃🌾*🍁🍁*

दूसरों के द्वारा यदि आप अपना आदर चाहते हैं तो पहले दूसरों का आदर करें।

👉 *आज से हम* सभी का आदर करें...

*🍁 जय सियाराम जी 🍁*



🍃💫🍃💫🍃💫🍃💫🍃💫🍃

Read More

शीतला सप्तमी की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं।।
।। जय सियाराम जी ।।