Itsme_stb my Instagram Id and youtube channels Series Bachpan - On YouTube Author of चोरी या पहेली Coauthor - ala rasi, Colour my dreams, घर की ओर

subscribe my channel Itsme_stb on youtube

epost thumb

पश्मीना और तबस्सुम

कुछ खो सा गया है न जाने कहाँ
शरारतों का बचपन अब मिलता नहीं
परत सी कोई जम गई है दुंधली सी शायद
एहसासों का पश्मीना भी बेअसर हो गया है
तबस्सुम जो चेहरे की रौनक हुआ करती थी कभी
आज गुमशुदा सी न जाने कहाँ है।।
©satender_tiwari_brokenwords
Instagram/Itsme_stb

Read More

खुशी का गम से बड़ा गहरा नाता है
गम ही तो अक्सर खुशी का एहसास कराता है ।।

@सतेंदर तिवारी

Instagram/Itsme_stb

-Satender_tiwari_brokenwordS

Read More

Last Breath -A story of DOWRY

Watch my latest poem " Last Breath"
on my youtube channel " Itsme_Stb"

Watch & Share
👇👇👇👇👇👇👇👇👇
https://youtu.be/7L4idKq7jDU

कर्मपथ

कर्म करूँ या पथ निहारूँ
या रस्ता खोजूँ मंज़िल का
कहाँ है जाना कहाँ नहीं
सवाल करूँ खुद से खुद का।।

इस दुविधा में बैठ मैं सोचूँ
कहीं रस्ता गलत तो नहीं
भटक न जाऊँ कहीं और मैं
सवाल करूँ खुद से खुद का।।

क्या देर हो गयी या जल्दी है
किसको जाकर ये सवाल करूँ
कर्म करूँ या पथ निहारूँ
सवाल करूँ खुद से खुद का।।

कब पहुँचूँगा मंज़िल पे अपनी
इंतेज़ार और कितना लम्बा होगा
भटक न जाऊँ कहीं और मैं
सवाल करूँ खुद से खुद का।।

धैर्य रखूँ और आगे बढूँ मैं
खुद से ही ये तय कर लिया
मिलेगी मंज़िल मुझको भी मेरी
जवाब ये मेरा खुद से खुद का।।

©Satender_Tiwari_Brokenwords

Read More

Happy Diwali

ह से हिन्दी ह से हिंदुस्तान है
भाषा है मेरी मेरा अभिमान है
इसमें मेरा स्वाभिमान है
ह से हिन्दी ह से हिंदुस्तान है

मेरी बोली कि इसी से पहचान है
मातृभाषा है इसी से मेरा ज्ञान है
मेरी बोली इसके बिन बेजान है
ह से हिन्दी ह से हिंदुस्तान है।।।

©सतेंदर_तिवारी_ब्रोकेन्वोर्डस
【Itsme_Stb】

-Satender_tiwari_brokenwordS

Read More

likr

-Satender_tiwari_brokenwordS

स्वरचित

पहली कविता कक्षा पाँचवीं में लिखी थी
और फिर क्लास टीचर को दिखाई थी
पसंद आयी उनको शाबाशी भी मिली थी
अगले दिन प्रार्थना समय पर बोलने को कही थी।।

अगले दिन स्टेज पे इस शब्द की शुरुआत हुई थी
टीचर ने बोला स्वरचित है कविता स्टेज पर कहना
हमने भी वैसा ही किया !स्वरचित कह कविता पढ़ दिया
इसका मतलब क्या है! ये सवाल वैसा ही रह गया।।

हमको लगा स्वरचित किसी लेखक का नाम है
इसलिए थोड़ा मायूस था कि इसे तो मैंने लिखा है
जब टीचर ने इस शब्द का मतलब समझाया
दिल मे सम्मान और आँखों में गर्व छा गया था।।

आज भी ये शब्द नया सा दिल के करीब लगता है
शब्दों में कैसे बयाँ करूँ नहीं समझ मे आता है
आज भी जब शब्द स्वरचित ज़ुबाँ से निकलता है
वो एहसासों का समंदर न जाने क्यों बहने लगता है।।
©Satender_Tiwari_Brokenwords
【Instagram/Itsme_Stb】

Read More