×

Hयाद आते है वो दिन वो राते जब ख्वाबो में आप ही होते थे.. गुजर गए वो दिन वो राते अरसा गुजर गया पर वो नूर आज भी मौजूद है खुद की आखों में ....ey, I am reading on Matrubharti!

दूर है फिर भी कितनी दिलकश है तू, दिल भी तलबगार है इस चाँद की तरह, तेरे दीदार के लिये।

Read More

न मोहब्बत में गुरुर है न इश्क का सुरूर, हम तो अपने वादों के लिए है मशहूर।।

कुछ अल्फाज ले लिए थे तेरी कलम से, लबो पे रहते तो , मेरे लबो को इक तोहफा मिलता, तेरे लबो के करीब आने का।।

Read More

गर याद करोगे यू ही , तो तेरी हर बज्म में मौजूद रहेंगे हम, दर्द ऐसा दिया है तूने, की बया न कर सकेंगे हम।।

कोई अपना सा लगा , यंहा आने के बाद, कुछ मुस्कुराया , कुछ भरमाया, कुछ अपनाया, कुछ शरमाया, न जाने क्यों दामन छुड़ाया, फिर न आया जाने के बाद।।

Read More