Hey, I am on Matrubharti!

दिव्य मोहक स्वरूप विशाल तृतीय दिवस, @shubh
मां चंद्रघंटा अवतार
सब के कष्टों को दूर करो मां करबद्ध करे जो करुण पुकार??

Read More

कुमकुम से सजे
तेरे पांव
रुनझुन करते
आए मां,@shubh
मन के हर कोने
में स्थिरता जगा
जाए

न शब्द है मेरे पास ना उन्हें पिरोने का जज्बा@shubh
बेटी हूं तेरी हर वक्त तुझे ढूंढती हूं मां

चंड मुंड विनाशिनी मां खप्पर वासनी तू ही धरा तू ही अंबर हे
शिवशक्ति वासनी
निज मन पवित्र से ध्यान करू मां
मैं तेरी शक्ति उपासना करू
वेग भी डरे आवेग से तेरे
दैत्य भी डरे त्रिशूल से तेरे
अपने चरण में मां अब मुझे
स्थान दो
बेटी हूं तेरी आंचल में अब
थाम लो
मन आश्रित तन आश्रित
ध्यान में अब मग्न हूं
शक्ति उपासना मैं लीन
हो जाऊं,@shubh
मां तेरी अब शरण में हूं
???? नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं
जय माता की ????

Read More

जो थामें सुख में हाथ दिलके नजदीक होते हैं@shubh
दुख में हाथ बढ़ाएं वो ईश्वर के बंदे होते हैं

जिंदगी एक ऐसी
किताब है
जिसके हजारों पन्ने
अभी तक आपने
नहीं पढ़े हैं

क्या् औकात है सूरज तेरी इस दुनिया में
रात के बाद भी एक रात है इस दुनिया में
शाख से तोड़े गए फूल ने हंसकर कहा
अच्छा होना भी बुरी बात है इस दुनिया....

Read More

प्रेम पराकाष्ठा है वस्त्र नहीं,
जो हर रोज बदला जाता ...
प्रेम तो वो चादर है अर्थी की,
पहन लिया जब उतारा नहीं जाता...

Read More

जिंदगी चलती जा रही है राहों से होकर बेखबर,
सफर तय कर रहे हैं मंजिलों से अनजान होकर।
अब तो आरजू है कुछ करने की ख्वाहिश,shubh!
जिन्हें पाने की दुआ कर रहे हैं दामन फैलाकर.....

Read More