Hey, I am reading on Matrubharti!

#मेरे दोस्त बोलते है मै बदल गया....
?मै न बदला मुझे आपनो ने बदला जीनके प्रति मै आपनी सच्ची निष्ठा ज़िम्मेदारी से निभाया आख़िर मे वो ही मुझे अपशब्द बोले तो बदलना लाज़िमी है...।।

Read More

मन ही सबसे प्रबल है। मन की प्रेरणा से मनुष्य की जीवन दिशा बनती है। मन की शक्तियों से वह बड़े काम करने में समर्थ होता है। मन ही नीचे गिराता है, मन ही ऊँचा उठाता है। असंयमी और उच्छृंखल मन से बढ़कर अपना और कोई शत्रु नहीं।

? ?
?आप का दिन शुभ हो?

Read More

तुम हो तो बसंत है, तुम नहीं तो बस अंत है
.. ?

आज बस इतना कहूंगाी
दुख सबको आते है दर्द सबको मिलता हैं

जिंदगी इतनी लंबी है
उसमें उतार-चढ़ाव आते रहते हैं

दुनिया की इस भीड़ में भी
अपने भी अब अनजाने हो गए

दूसरों की खुशी में खुश होकर देख लिया
मैंने मिलता नहीं कुछ खास

क्योंकि जिस जिस से भी होगीना
वो सब तोड़ेंगे आप की आस... ?

Read More

हार कब तक पीछे भागेगी,,,,,, कभी ना कभी तो उसे भी जीत से हारना ही होगा ??.......



सब्र करो
या तो जीत जाओगे
या तो सीख जाओगे..!!?

Read More

साफ़ दामन का दौर तो कब का खत्म हुआ साहब,
अब तो लोग अपने धब्बों पर गुरूर करने लगे हैं।

*मानव संबंधो में सबसे बड़ी ग़लती-*
*हम आधा सुनते हैं,*
*चौथाई समझते हैं,*
*शून्य सोचते हैं*
*लेकिन*
*प्रतिक्रिया दुगुनी करते हैं...*
?

Read More