Muhabbat krni h to kitabo se kro... bewfai bhi hui to kabil bna k chhodegi...#D

हाल अपना उसको सुनाते हुए,,,
रो पड़ा था मैं मुस्कुराते हुए...#D

बस इतना सा असर छोड़ा है मैंने तुझ पर,,,
कि अब बेवजह तू मुझे याद करके मुस्कुराएगा...#D

आशियाना था पर बसेरे में रहा,,,
मैं दीपक होकर भी अंधेरे में रहा,,,
इश्क़ समतल भी मैं कर सकता था,,,
मैं जानबूझ कर गहरे में रहा,,,
हर दुख का रास्ता रोक रखा था,,,
मैं ख़ुशी बनकर तेरे चहरे में रहा...#D

Read More

एक ख्वाब है जो पूरा हो नहीं सकता,,,
मैं तुम्हे इस कदर हासिल कर लूं जो कभी खो नहीं सकता,,,
जिस तरह रोता हूं तुम्हे औरों की बांहों में देखकर,,,
उस तरह तो किसी की मौत पर भी रो नहीं सकता...#D

Read More

यूं तो कोई सबूत नहीं है कि वो मेरा है,,,
बस दिल का रिश्ता है, यकीन से चलता है...#D

ऐसा नहीं है कि हम उनका इंतजार नहीं कर सकते,,,
बस कभी कभी ये इंतजार इतना लम्बा हो जाता है कि रिश्ते पीछे छूट जाते है...#D

Read More

खबरें आ रही है आज कल तुम्हारे अच्छे दिनों की,,,
लेकिन पता है मुझे,,,
मेरे बगैर तुम मुस्कुरा तो सकते हो,
मगर खुश नहीं रह सकते...#D

Read More

कुछ पुरानी तारीखों को देखकर,,,
कुछ पुराने लम्हें याद आते है,,,
कभी कभी मन करता है,,,
चलो एक बार फिर,
वो लम्हा जी कर आते है,,,
फिर याद आता है,
वो लम्हें अकेले कहां जिए जाते है...#D

Read More

वो रातों की बातें,
वो सुहानी सी रातें,,,
वो साथ साथ घूमना,
वो खाने के लिए पूछना,,,
वो मिलने के लिए तड़पना,
वो एक दूजे में सिमटना,,,
हंसी, मजाक और ठिठोली,
वो प्यारी सी तोतली सी बोली,,,
वो करना एक दूसरे की कदर,
सुबह शाम दोनों ही पहर,,,
एक रहे अगर उदास, दूजा न मुस्कुराए,
वो रूठने पर एक दूजे को मनाए,,,
वो बातों बातों में लड़ना और झगड़ना,
वो आंसू बहते हुए तेरा सिसकना,,,
वो थाम कर उंगली सड़क पर चलना,
वो छोटी छोटी बातों की जिद करना,,,
अब न वो बातें रही न वो रातें,
बची है बस तेरी यादों की सौगातें...#D

Read More

कुछ यादें भी कितनी अजीब है न,,,
बेवक्त आ जाया करती है,,,
जिन्हे याद न करो,
उनकी याद भी आ जाया करती है...#D