🖤 मुसाफ़िर :) Luv 2 xplore Everything •••Wandering soul !

वो उन्हें उस #अंदाज़ से भूलता है
कि रेजा रेजा उनकी #याद आती जाती है !

जो रुकी सबकी ज़िंदगी तो लगा
जाने कितने वक्त से मैं ठहरा हुआ था..!

चुप कहाँ रहती हैं,
हरदम लाखो सवाल करतीं हैं...

बड़ी दिलकश होती है ये #खामोशी ,
बड़ा कमाल करतीं हैं....

शाम होते ही खुली सड़कों की याद आती है
सोचता रोज़ हूँ मैं घर से नहीं निकलूँगा
#musafir

दिल में वीरानियां कम थी क्या
जो शहर भी सुनसान पड़ गया।!!
#मुसाफ़िर

#परिन्दों की फ़ितरत से आए थे वो मेरे दिल में
ज़रा पंख निकल आए तो आशियाना छोड दिया ..

🦅

तुम्हें तलब कहूं, ख्वाहिश कहूं, या ज़िंदगी,
तुमसे, तुम तक का, #सफर है ज़िंदगी मेरी :)

बात ये है कि बात कोई नहीं
मैं अकेला हूँ साथ कोई नही
#मुसाफ़िर

लाजवाब नहीं, बेमिसाल हो तुम
मगर मेरे लिए बस एक ख़्याल हो तुम...

सँवरती है
सँवरती है ...वो देखकर आईना
सँवर जाए तो .. आईना देखता है
#मुसाफ़िर