I am reading and writing on MB besides for Delhi Press English and Hindi magazines.

कोई न कोई कमी हर इंसान में होती है . पर सार्वजनिक रूप से उसका उपहास करना खुद अपने संस्कार का भी मजाक बनाना है .

Read More

आज दिल बहुत उदास है
तेरी कमी का अहसास है
ना मिलना मजबूरी है
कोरोना में यही जरूरी है

दूसरों में कमी निकालना
दुनिया की पुरानी आदत है
अपनी कमी नजरअंदाज करना
अक्सर लोगों की फितरत है
यह दस्तूर बहुत पुराना है
इसे दिल से नहीं लगाना है

Read More

केरल की हरीतिमा मनमोहक
जो सबके मन यूँ भाया है
मानो प्रकृति ने धानी चुनर
ओढ़ कर धरती पर लहराया है
मेरे मन मयूर ने देख ये हुनर
हर्ष से अपना पंख फैलाया है

Read More

प्यार के लिए दया की याचना नहीं करती हूँ
ऐसा मेरी फ़ितरम में नहीं
क्योंकि मैं दया की नहीं
मैं खुद को प्रेम का निर्मल पात्र समझती हूँ

Read More

किसी की यंत्रणा भरी जिंदगी देख कर उसके मन में दया का भाव जगना मानवता की पहली निशानी है

सारी दुनिया करती है जिसका नमन
वो है देश का प्रधान सेवक
और हिन्द का एक अनमोल रत्न

ख़ुशी उल्लास के अवसर पर सब हमारे आगे रहते हैं पर दुःख संकट की घड़ी में पीछे हो लेते हैं ठीक वैसे ही जैसे कि बारात में बाराती आगे और दूल्हा पीछे और अंतिम यात्रा में हमारा पार्थिव शरीर आगे और लोग पीछे .

Read More

I take my hats off to the nation
I take my hats off to all those
Who sacrificed lives for nation
I take my hats off to all farmers
Who feed us despite all odds
My hats off to Dihadi Mazdoors
Who despite mile away from homes
Provide us all means of comforts
I take my hats off to sincere teachers
Who selfishlessly preach poor pupils
And also my hats off to all those
Bold parents who send their kids
To serve our armed forces needs
And finally hats off to Medical teams
Saving thousands of lives by their deeds
Midst the extreme severity of Covids

Read More

एक चुटकी सैनिटाइजर का मूल्य समझना है
कोरोना को अगर पास न फटकने देना है
मुँह पर मास्क लगा कर बाहर निकलना है
औरों से दो गज की दूरी बनाये रखनी है
थोड़ी सी समझदारी हमें भी दिखानी है
सब जिम्मेवारी सरकार पर नहीं छोड़नी है

Read More