I am reading and writing on MB besides for Delhi Press English and Hindi magazines.

If you dislike something better change it 
If you can’t  , change your tenet at least 

ज़िंदगी देने वाले तूने क्या सजा दिया
क्यों ज़िंदगी को उम्र  कैद कर किया  
मौत की हिरासत में इसे डाल कर 
मरने तक जीने को मज़बूर किया

Read More

The most potent Durga Prayer for Navaratri "BHAVANYASHTAKAM (Eight stanzas of Bhavani Prayer)" written by Adi Shankara in Sanskrit translated in English:

4 th  Stanza 

न जानामि पुण्य़ं न जानामि तीर्थं, न जानामि मुक्तिं लयं वा कदाचित्।
न जानामि भक्तिं व्रतं वाSपि मातर्गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि।।
meaning - 

I do not know how to be righteous or find your abode. 
I do not know how to achieve freedom by dissolving my ego. 
I am devoid of the will to fight; I surrender. 
I am not strong enough to make any vow. 
O Mother of the universe - You are my saviour, my eternal refuge.

Read More

हर मर्ज़ की मुकम्मल दवा नहीं होती
जहाँ कुछ भी न काम करे
इबादत और दुआ काम कर जाती

ये दुनिया है एक माया नगरी
छलकपट से भरी है एक गगरी
इस से उन्मुक्ति तभी मिले
जब ज़िंदगी आँखें मूँद ले

The most potent Durga Prayer for Navaratri "BHAVANYASHTAKAM (Eight stanzas of Bhavani Prayer)" written by Adi Shankara in Sanskrit translated in English:


3rd stanza

न जानामि दानं न च ध्यान-योगं, न जानामि तन्त्रं न च स्तोत्र-मन्त्रम्।
न जानामि पूजां न च न्यासयोगम्, गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि।।
meaning
 
O Mother of the universe - I do not know how to come close to you. 
I do not know any form of puja, or prayers, or how to worship you at all. 
Help me, O Mother Divine - You are my only saviour, my eternal refuge.

Read More

कभी हम भी होते थे रंगीन
पर आज हो गए हैं ग़मगीन
तो डरने की कोई बात नहीं है
कोई गम  मुझे तोड़ सके
ऐसी उसकी औकात नहीं है 

Read More

नवरात्रि का दूसरा दिन -

The most potent Durga Prayer for Navaratri "BHAVANYASHTAKAM (Eight stanzas of Bhavani Prayer)" written by Adi Shankara in Sanskrit translated in English:


भवाब्धावपारे महादु:खभीरु:, पपात प्रकामी प्रलोभी प्रमत्त:।

कुसंसार-पाश-प्रबद्ध: सदाSहं, गतिस्त्वं गतिस्त्वं त्वमेका भवानि
आदि शंकराचार्य रचित -
Meaning -
O Mother Divine! 
I have fallen in the ocean of birth and death, and I fear their sorrows. 
I am trapped by my ego, with its countless desires, greed, pride and lust. 
O Mother of the universe - You are my only saviour, my eternal refuge.

Read More

# नवरात्रि   (KAVYOTSAV )


जय  माँ नौ रूपों वाली 


जय  माँ नौ रूपों वाली 
जय माते शैलपुत्री 
त्रिशूल कमल पाणी 
नंदी तेरी वाहिनी 
जय माँ शेरा वाली 

जय माँ नौ रूपों वाली 
जय माते ब्रह्मचारिणी 
रुद्राक्ष कमल पाणी 
निज चरण तेरी वाहिनी 
जय माँ शेरा वाली 

जय माँ नौ रूपों वाली 
जय माते चंद्रघंटा 
चंद्र है तेरे माथा 
तेरे हैं दस भुजा 
जय माँ शेरा वाली 

जय माँ नौ रूपों वाली 
जय माते  कुष्मांडा 
तेरा रूप सूक्ष्मा 
तू ही  है ऊष्मा    
जय माँ शेरा वाली 

जय माँ नौ रूपों वाली 
जय जय  स्कन्दमाता 
माते तेरे चतुर्भुजा  
कमल तेरे दो भुजा 
गोद में तेरे स्कंद 
जय माँ शेरा वाली 

जय माँ नौ रूपों वाली 
जय माते कात्यायनी 
तू ऋषि कात्यान पुत्री 
हस्ते खड्ग धारिणी 
शेरा है तेरी वाहिनी 
जय माँ शेरा वाली 

जय माँ नौ रूपों वाली 
जय माते कालरात्रि 
रासभ तेरी वाहिनी
खड्ग त्रिशूल धारिणी
ललाटे नेत्र धारिणी
जय माँ शेरा वाली 

जय  माँ नौ रूपों वाली 
जय माते महागौरी
तू चतुर्भुजा धारिणी 
 त्रिशूल डमरू धारिणी
श्वेत गज तेरी वाहिनी
जय माँ शेरा वाली 

जय माँ नौ रूपों वाली 
जय माते सिद्धिदात्री 
कमल पुष्प विराजिनि 
हस्ते गदा धारिणी 
तव शरणं  इदानीं  
जय माँ शेरा वाली 

  जय माँ नौ रूपों वाली 
 तू  ही ब्रह्माण्ड की मातृ
तू ही जगत की विधात्री  
अहम् काम क्रोध  त्रुटि
लोभ लिप्सा दोषादि
त्वमेव मोक्ष प्रदायिनी 
 नमामि नमामि नमामि भवानि 
प्रणमामि प्रणमामि प्रणमामि भवानि 

# Navratri

Read More

कभी ख़ुशी कभी गम 
कभी सख्त कभी नरम 
कभी ठंड कभी गरम 
कभी सितम कभी करम 
जिंदगी की यही रीत है 
 हार में ही कभी जीत है

Read More