Hey, I am on Matrubharti!

ये शामें इतनी तन्हा इतनी वीरानी क्यों होती है,क्यों हर शाम जैसे कुछ खोने का एहसास कराती है,ये शामें क्यों दिल को इतना डराती है,क्या खोया था इन शामों में जो आज तक हर शाम वही एहसास दोहराती है,चंद लम्हों की तन्हाई भी जाने कितनी यादें ले आती है,हर यादें जैसे खुद से ही कही दूर मुझे ले जाती है,,,,

Read More

किसी के साथ चलकर भी राहें आसां नही हो तो,अकेले चलना ही सही है,,,,,

khamoshi jitni gehrati ja rhi hai,,tumhare padchapo ki aawaz utni hi spasht hoti ja rhi hai,,,,is ghane andhere ko chir kr tum ek nayi subah laoge,hogi jaha khushiyan hi khushiyan us desh tum le jaoge....Tum bhram nhi ho mera na kori kalpna ho,hr dhadkan me jiya hai tumhe,hr soch me tumhe socha hai,jagte sote hr pl jo dikhta hai tum mera vahi sapna ho.....

Read More

क्या हुआ जो चलते चलते थक जाती हूँ मैं,,,,,कुछ पल भले रुक जाती हूँ,पर फिर से चलती हूँ मैं,,,,,माना सफर आसां नही होगा,कुछ मुश्किलें, कुछ दिक्कतें, इन सबसे भी सामना होगा,,,,,ठोकर भी लगेगी और लहू भी बहेगा,,,,,,पर बार बार गिर कर भी उठ खड़ी होउंगी मैं,,,,,ज़िन्दगी चाहे तू मुझ पर लाख सितम कर,तुझे तो हंस कर जिया है,हंस कर ही जियूंगी मैं,,,

Read More

लगाव जितना गहरा, प्यार उतना ही गहरा,,
प्यार जितना गहरा,उम्मीद उतनी ही गहरी,,
उम्मीद जितनी गहरी,दर्द उतना ही गहरा,,,

Read More

गर तू बादल है तो बरसता क्यों नही,
तू है गर जाम तो छलकता क्यों नही
सदियों की तिशनगी है रूह को मेरी
गर है तू समंदर तो मचलता क्यों नही।।।

Read More

बुरा लगता है उस वक़्त जब कोई खुद गलत होकर आपको ये एहसास कराने में कोई कसर नही छोड़ता कि गलत आप ही है ।और बहुत तकलीफ होती है बिन गलती के अपनी गलती सिर्फ इसलिए स्वीकार कर लेना क्योंकि आपको उस रिश्ते की कद्र है।

Read More

सबसे ज्यादा दुख उसी इंसान से मिलता है
जिसे आपने अपनी ज़िन्दगी में सबसे ज्यादा एहमियत दी होती है।।

समंदर के खारे पानी मे
कितनी मीठी नदियां मिलती है
समंदर फिर भी खारा ही रहता है
नदियां अपनी एहमियत खो देती है

Read More