Hey, I am on Matrubharti!

आँसू बहाये, पाँव भी पटके
बड़ी देर तक
ठुनकती भी रहीं
पर मुझसे दूर न हुईं
इनको भुलाने की फ़नकारी में
मैं माहिर न हो सकी
चाह कर भी .....
टूटता नहीं, रिश्ता मेरा
इन ज़िद्दी यादों से !!!
.....

#यादें

Read More

ज़िंदगी की चाय में

उबाल देना

सारे रंजो-ग़म

अनबन की गाँठ वाली अदरक को,

कूट-पीटकर डाल देना

जिसका तीखा सा स्वाद भी

बड़ा भला लगेगा,

मिठास के लिए

ज़रा सा अपनापन

डालते ही

जायकेदार चाय

पिला सकोगे

अपने अपनो को !!!

Read More

मुस्कराहटों के मायने
मत पूछा करो तुम,
दर्द को छिपाने में
.... आँसुओं को,
पलकों की ....
कोरों पे रोकने में
अक़्सर ये,
शुभचिंतक हो जाती है!!!
©

Read More

दिसम्बर का
इंतज़ार ख़त्म होने को है
21वीं सदी को
इक्कीसवें साल की
शुभकामनाएं देने
जनवरी सीढ़ी दर सीढ़ी
उतर रही है ...
शुभता की कामनाओं से
सजे हैं द्वार मन के,
उम्मीद ने बुलावा भेजा है
खुशियों को मंगल गीत गाने को,
आना ही होगा नव वर्ष को,
सबके आँगन …..
हर्ष और उत्कर्ष का
चर्मोत्कर्ष लिए !!!

Read More

उम्मीदों के माथे पे
कभी काला टीका भी लगा देना
बड़ा बेरोक-टोक ये
इसकी उसकी आँखों में
उतर जाती हैं
बन के अपनी सी !
….
जाने की तैयारी में है
दिसंबर 20 का
उम्मीदों की पिटारी लिये
जनवरी 21 की
दस्तक़ देने को आतुरता से
शुभ क्षण, शुभ दिन को
साथ लिए शुभकामनाओं भरा
शुभ बिहान साथ लाई है !!!
...

Read More

पावन सी एक दुआ
तेरे हक में
कच्चे सूत की
पक्के रँग वाली बाँध दी है
उम्मीद की गठानें मारकर!
..
जब भी गूँजेंगे
मंदिर में घण्टियों के स्वर
ईश्वर को इन
मन्नतों का स्मरण
जरूर होगा
विश्वास की डोर
नेह से बंधी
डोलती रहती है आगे-पीछे
पवित्र स्पर्श से !!
....©...

Read More

ये हौसला है न
इसको मैंने नजरें उठाकर
देखा भी नहीं,
पर जितनी बार टूटती हूँ मैं
उतनी बार इसे
अपने आस-पास ही देखती हूँ !

एक चुटकी उम्मीद की
बजाना कभी
उदासियां भी खिलखिलाकर
गले लग जाती हैं
खामोशियाँ बतियाने लगती हैं
आपस में
और मन चल पड़ता है
एक नई डगर पे !!
....

Read More

चाय के साथ
स्वाद अपनत्व का
जिंदगी लेती।
….
रिश्ते निभाती
स्वागत में आकर
चाय की प्याली।
….