Hindi Stories PDF Free Download | Matrubharti

इन्कार
by Mukteshwar Prasad Singh
  • (0)
  • 22

                    इन्कार​आज राजा देवकीनन्दन एण्ड डायमंड जुबली महाविद्यालय ,मुंगेर के कैम्पस में नयी चहल-पहल थी। ऐसी चहल पहल प्रायः प्रतिवर्ष ...

કઠપૂતલી - 9
by SABIRKHAN
  • (31)
  • 269

ખટપટિયા કરણદાસની યુવાન વિઘવા વાઈફને સાંત્વના દઈ હોસ્પિટલ તરફ રવાના થયો.ત્યારે ખટપટિયાના દિમાગમાં કંઈક ખટકી રહ્યુ હતુ. કરણદાસની યુવાન વિધવાનુ રૂદન એને પૂર્વનિયોજિત ડ્રામા જ લાગ્યુ.એ જરૂર કરતાં વધારે ચાલાક ...

बरसात के दिन - 3
by Abhishek Hada
  • (6)
  • 73

अभी तो काॅलेज में आये दो दिन भी नही हुए और कोई लड़की भी पटा ली क्या ? - राकेश ने पूछाअरे नही यार ! तुझे कल बताया था ...

भूमिजा - 2
by Meena Pathak
  • (7)
  • 67

फुलमतिया उर्मिला देवी की खास परजा थी वह लगभग रोज ही आती और घर के अनेक छोटे बड़े कार्यों के साथ उनकी सेवा भी कर जाती बदले ...

वेडिंग कार्ड
by Swatigrover
  • (18)
  • 128

नैना  को  किसी ने मार दिया था। उसकी खून से  लथपथ  लाश लोगों  को कहने पर  मजबूर कर रही थी  कि  'क्या  अन्याय  है! दस  दिन बाद  इसकी  शादी  थी  ...

कलर-ब्लाइण्ड
by प्रियंका गुप्ता
  • (3)
  • 35

वह कलर-ब्लाइण्ड था। आम भाषा में कहा जाए तो वह रंगों को ठीक से पहचान नहीं पाता था...खास तौर से लाल और हरे में अन्तर करना उसके लिए मुश्किल ...

आमची मुम्बई - 14
by Santosh Srivastav
  • (1)
  • 14

गिरगाँव चौपाटी से मालाबार हिल की चढ़ाई बाबुलनाथ से शुरू होती है व्हाईट हाउस, वालकेश्वर, बाणगंगा, राजभवन..... राजभवन पहुँचकर मालाबार हिल का एक कोना समाप्त हो जाता ...

कमसिन - 3
by Seema Saxena
  • (4)
  • 86

वो सड़क तक ही पहुची थी कि फिर से रवि का फोन आ गया ! घर से निकल कर सड़क तक आ गयी हूँ ! ठीक है आप वहीँ ...

द टेल ऑफ़ किन्चुलका - पार्ट - 1
by VIKAS BHANTI
  • (4)
  • 39

डिसक्लेमर: यह कहनी पूरी तरह काल्प्निक है, इसका किसी धर्म, जगह, समय या धर्मग्रन्थ से कोई वास्ता नहीं है । इसका कोई एतिहासिक महत्व भी नहीं है । इसका ...