×

नमस्कार वाचकहो शाळेत असल्यापासून काव्यलेखनाची आवड आहे. मात्र गेल्या 5 वर्षापासून blogs, कथा सुद्धा लिहित आहे. मायबोली, storymirror.com, facebook, instagram, Pratilipi वर लिहित आहे. मराठी,हिन्दी, English,गुजराती भाषेत लिहित आहे. आईने लावलेली वाचनाची आवड, पत्नीची प्रेरणा, मित्रांचे कौतुक आणि वाचकांचा सुयोग्य आशिर्वाद यामुळे पुनश्चा जोमाने Matrubharati वर लिहित आहे. लक्ष असू द्या. आपला नम्र सूर्यांश (suryakant majalkar)

हम तेरे प्यार में इस तरहा खो जाते है।
आजकल अपने घर का रास्ता भुल जाते है।

नफरत की आॅंधी में मेरा प्यार का आॅंगन उजाड दिया।
जहाॅं कभी इश्क के फुल खिला करते थे।

फुरसत में समझा देना प्यार क्या होता है। तजुर्बा कहता है, प्यार नासमझ होता है।

कागजो के फूल ना बिछाये थे मैंने ।
जो इस दिल को पर्चे में
अस्वीकारकर चली आयी ।

बारीश कुछ थमसी गयी है।
कोई राजकुमारी ख्वाबों के बादल में खोई है।

रुपयौवनाचे काय गुण गाऊ
शब्दांत तुला कुठे स्थान देऊ।
चिंब भिजल्या देहाचे, तारुण्य किती पाहू
तुझ्या मोदांनदाचे, कोणते गीत गाऊ।
देहभान विसरुन बेफाम होऊनी नाचू
कितीदा तुला कितीवेळ पाहू।
मनातली तळमळ तुला कशी सांगू
प्रेमपरमेश्वराकडे आणखी काय मागू।
नग्न पावलांचे ठसे सांगून जातील
खुल्या अंगणात तुला शोधतील।
आणिक सोबतीला पावले शोधतील
कोणासवे होती आपसात चर्चतील।
सख्या विचारतील तुला वेठीस धरुन
कोण होता तो तरुण सांग म्हणतील।
निमित्त पावसाचे मनसोक्त भिजायचे
काही नाही बोलायचे,गुपित मनात ठेवायचे।
ओळखतील चतुर त्या रहस्य सारे काही
भेटला कोणी मनभावी पावसात की।
हसशील लाजून मला माहीत आहे
तु माझ्या खात्रीने प्रेमात आहे।

Read More

"આ જીવન સુંદર છે"

જો તમે મારા મિત્ર છો
અત્ર તત્ર સર્વત્ર છો |
રક્તસંબંધ સાથે સરખામણી કરતા
તો સરસ છો|
જીવિત રહવામાટે શ્વાસ છો|
મારા વ્યક્તીત્વની ઓળખાણ છો|
સાચે કહું તો તમે
મનના વિશ્વાસ છો|
લખું તો શબ્દ ઓછા પડે|
હુ રડું તો તમે ગમતાં નથી
હુ હસું તો તમે આનંદ થાય|
તમે ન હોતા,તો કેવીરીતે
હુ લખી સકું
"આ જીવન સુંદર છે"

Read More

कुछ गलतियाॅं,
कुछ खामियाॅं
हम में भी है।
इसलिए बात बनते बनते
बिगडती है।

मुझे वो मेरी याॅंदे लौटा दो, तुमबिन जीने का सहारा है वो। जिनकी तुम्हे जरुरत नही। जिनको तुम्हारी आदत नही। वो सारे नजराने लौटा दो। क्युॅं वक्त तुमने जाया कर दिया। ठुकराने का, था मन बना लिया। कंधेपर सर रखे साथ चले थे। मंजिल से कुछ दुरही साथ छोड दिया। झुठी ही सही वो कसमें लौटा दो, जिससे तुमने ,था दिल बहला दिया। मैंने मोहब्बत की, तुमने मजाक बनाया। प्यार के रिवाज का अच्छा सीला दिया। मैं जानता ये बातें फिजुल है। लेकीन प्यारका ये भी एक उसूल है।

Read More

बरसना है तो बारीश की तरहा बरसो
तरसना है तो मेरी
तरहा तरसो