insta id-tasleem_shal

सिर्फ़ महोब्बत का ही रिश्ता,
दिल से निभाया जाए ये जरूरी नहीं होता ज़नाब.....
हमने तो यहाँ नफ़रत का रिश्ता भी,
बड़ी सिद्त से निभाते हुए लोगों को देखा है।।।

-Tasleem Shal

Read More

इस दुनिया में कोई किसी का,
नही होता ज़नाब.....
एक बार ग़लती से ग़लती कर के तो देखो,
लोग आप से नज़रे मिलाना भी छोड़ देंगे।।।

-Tasleem Shal

Read More

इस वेरान सी दुनिया में,
जीने का नया सलीका सिखाती है।
ये महोब्बत ही है ज़नाब....
जो किसी की जिंदगी जन्नत बनाती है,
तो किसी की हँस ने की वजह भी छीन ले जाती है।।।

-Tasleem Shal

Read More

कोई जो तुम्हे छोड़ जाए,
तो अश्क़ मत बहाना ज़नाब.....
क्योंकि इस गैरों के जहाँ में,
कोई बिना मतलब के अपना नही होता।।।

-Tasleem Shal

Read More

कुछ पल की दूरी से जो रिश्ता टूट जाए,
तो समझ जाना ज़नाब...
रिश्ता महोब्बत के लिए नही ज़रूरत के लिए,
निभाया जा रहा था।।।

-Tasleem Shal

Read More

चुप थे हम,
इसलिए तन्हा रह गए ज़नाब....
अगर जिद करके अपना हक माँगते,
तो हम भी किसी महफ़िल का हिस्सा होते।।।

-Tasleem Shal

Read More

टूट जाए कभी कुछ रिश्तों की डोर,
तो संभाल लेना जनाब....
हर बार समजदारी से टूटी डोर,
फिर से बंध जाए ये ज़रूरी तो नही।।।

-Tasleem Shal

Read More

मिल जाए अगर तुम्हें,
तुम सा कोई तो,
इश्क़ ए इज़हार कर ही लेना ज़नाब.....
सुना है यहाँ लोगो का,
नज़रिया और फ़ैसला बदलते देर नही लगती।।।

-Tasleem Shal

Read More

ये इश्क़ और महोब्बत की बाते,
किताबों के लिए ही ठीक है ज़नाब....
हक़ीक़त में तो न ही तुम इसे संभाल पाओगें,
और न ही इसका अंजाम सह पाओगें।।

-Tasleem Shal

Read More

ये पलके आखिर भीग ही जाती है जनाब....
जब किसी के लिए खुद को कुर्बान भी कर दो,
फिर भी यही सुनने को मिले के....
आख़िर तूने मेरे लिए कीया ही क्या है???

-Tasleem Shal

Read More