क्या पता कि हमारी मिट्टी की देह में जुड़े हुए हों मिट्टी के ही पंख कई, और आसमान हमारे नीचे हो? .......कथाएँ, कविताएँ, आप और हम