poet and writer follow me instragram id lamho_ki_guzarishey

अगर तुम पढ़ लेते तो, पढ़ लेते मेरे खामोशी को
माना मुझे लफ्ज़ो में बया करना नहीं आता...
अगर तुम समझ लेते, तो समझ लेते मेरे मुस्कुराहट को मुझे दर्द को आँखों से बहाना नहीं आता...
मैं तुमसे चाहती थी बस वहीँ समझ
तुम दें डाले दुनियां भर की चीज़े
पर तुम वहीँ समझ ना सके...
किसी को प्यार देने से ज्यादा जरूरी हैं उसे वह समझ देना
उसका साथ देना जब वो कहे को उसे अकेला छोड़ दो...
तृषा...

-Trisha R S

Read More

मुद्द्तो से मुलाक़ात हुई नहीं तुमसे
पर आँखों से तुम गये ही कब थे..।।

-Trisha R S

पहुंच सकती हूँ मन्दिर की सीढ़ियों पर जब जी चाहें पाँव रख, पर नहीं रखती मैं पाँव उस सीढ़ियों पर क्युकि मुझे मन्दिर के गर्भ तक नहीं, ईश्वर के मन तक का सफर करना हैं...
Trisha R S..✍️
lamho_ki_guzarishey

Read More

दोस्ती का मतलब किसी एक दिन फ्रेंडशिप विश कर देने से नहीं होता
ना ही होता है, उसके साथ भीड़ में खड़ा होने से
दोस्ती वह नहीं की जब हमको उसकी ज़रूरत हो याद कर लिया, जब दिल चाहा फोन ना रिसीव किया
हम अक्सर उस कोहिनूर को खोजते रहते हैं जिसे हम कभी सबसे अच्छा दोस्त बुलाये रहते हैं
इस व्यस्त जीवन शैली का ही नहीं सम्पूर्ण दोष, दोष कहीं ना कहीं हमारी अपनी विचारधारा का ही होता है
हम सफलता की होड़ में अनावश्यक रूप से इतना भागते हैं की अपने खास लोगों को पीछे ही छोड़ देतें हैं
हमें उसके साथ तब खड़ा रहना चाहिए जब सच में उसको हमारी जरूरत हो
दोस्ती का मतलब कुछ बे-मतलब सा होता है
थोड़ी नादानियाँ हों, पर दिल में बेईमानियां ना हों
जिसे भी दोस्त बनाएं, उससे जिंदगी भर हर तकलीफ में हंसना सीख लें
उसके आँसू अपनी आँखों से बहाना सीख ले, अगर ऐसी दोस्ती है तो फिर और क्या चाहिए..।।
Trisha R S... ✍️

Read More

मैं फ़क़त रात भर ना सोयी उन पंक्तियों के खो जाने पर
जिसमें तुम्हारे होने की मैंने कल्पनायें की थी
तुम सोचो, मैं कितना रोयी होंगी
तुम्हें हक़ीक़त में खो जाने पर...।।

Trisha R S... ✍️

lamho_ki_guzarishey

Read More

Trisha R S लिखित कहानी "जिंदगी" मातृभारती पर फ़्री में पढ़ें
https://www.matrubharti.com/book/19890283/the-life

lamho_ki_guzarishey

ज़िन्दगी के अंधेरों में जो आप को दीपक की भाती उजाला दें साथ ही आप को सिखाये खुद दीपक सा जलना और बिना सहारे सदउन्नति के मार्ग पर चलना...
वहीँ आप का गुरु हैं ..

Read More

आँखों के इस बरसात को
आंसू कह मत कर
इसकी तौहीन
ये अरमान हैं दिल के
हक़ीक़त मे तब्दील होने को
हर शाम अपने जोर पर होते हैं
और आखिर में
तोड़ देते हैं
दर्द की हर सीमा
लोगों के सोच का बांध
और उल्फाई हुई नदियों की भांति
डूबों देते हैं
सम्पूर्ण जीवन की विवशता
और बहा ले जाते अपने साथ
दुःख पीड़ा
और असहजता का एक अंश...।।

तृषा...

Read More

गलत लोगों से प्रेम
खुले आसमान के नीचे बनी
एक खूबसूरत पेंटिंग की तरह होती है
जिसे एक ना एक दिन भीग कर
बिगड़नी ही होती है.....।।
Trisha R S... ✍️

Read More