poet and writer follow me instragram id lamho_ki_guzarishey

हम इस समर मे मौन बैठ जायेंगे,
लड़े बिना हम लड़ भी जायेंगे,
हाथ भी नहीं लगाएंगे किसी को,
देखना ये युद्ध हम जीत जायेंगे..!

lamho_ki_guzarishey

Trisha R S... ✍️

Read More

मैं साँझ बनी हूँ....
तुम मेरा आसमान बनोगे क्या...

Trisha R S... ✍️

मैं लिख दू संघर्षों की गाथा अल्फाज़ो मे
मगर डर हैं की, किल्क को भी पसीना छूट जायेगा

उतार दू पीड़ा किसी कोरे प्रस्तर पर
मगर डर हैं की, प्रस्तर भी लहू मे डूब जायेगा

पा जाऊ हर मुकाम , कमर कस लू जो आगे बढ़ने की
मगर डर हैं की, तू कहीं पीछे ही छूट जायेगा

हुनर हैं मनाने को दुनियां भर को मेरे अंदर
मगर डर हैं की, मेरा दिल ही खुद से रूठ जायेगा

लिख दु खत्म न होने वाली कहानी तेरी मेरी,
मगर डर हैं की, कल्क बिच मे है टूट जायेगा ...

Trisha R S...✍️

Read More

एक पंछी हस रहा था मुझे देख कर
बोला अब पता चला कैद मे जिंदगी कैसे गुज़रती है
..


Trisha R S... ✍️

इतना महान तो नहीं की पूजा जाये
पर हां इतना जरूरत हैं की कोई मेरे प्रेम को गाली नहीं दें सकता...

Trisha R S....✍️







ig//lamho_ki_guzarishey

Read More

मेरी कवितायेँ मुझे रचती हैं...

Trisha R S...✍️




read capital..

आप की पहचान आप के व्यक्तित्व से निर्धारित होती हैं
आप का व्यक्तित्व आप के व्यवहार से
और आप का व्यवहार आप के विचार से
तो आप अपने विचारों को उच्च करिए
आप की पहचान खुद ब खुद उच्च होगी..

Lamho_ki_guzarishey
Trisha R S... ✍️

Read More

बनावत की सुंदरता नहीं...
मुझे सादगी का रूप पसंद हैं
वो छुपा लेती हैं मुझे अपने जुल्फों की छाँव मे
इस लिए मुझे ऐ धूप पसंद हैं...

lamho_ki_guzarishey
Trisha R S... ✍️

Read More

जानते हो मुझे किससे इश्क़ हैं..???
मुझे तुम्हारे हर ख्याल से इश्क़ हैं
गुस्से मे लाल गाल से इश्क़ हैं...
बे मतलब जो तुम करते हो उस बवाल से इश्क़ हैं
और तुम्हारे शक से भरे हर सवाल से इश्क़ हैं...
Lamho_ki_guzarishey
Trisha R S... ✍️

Read More

दिल चाहता हैं... अपने जज्बातो के खून के इल्ज़ाम मे मुकदमा कर दूँ तुझ पर,
मगर मेरे सींवा तुझपर किसी की हुकूमत हो मुझे यह मंजूर नहीं....!



Lamho_ki_guzarishey
Trisha R S... ✍️

Read More