भावों की ये, अभिव्यक्ति शब्दों के आधार है मेरी कलम ही, मेरे अस्तित्व की पहचान है.

#चैटस्टोरी

एक कप चाय

सुशांत, आज फिर वही बारिस की भीगी रात और तुम्हारा साथ, तुम्हें याद है,ऎसी ही एक रात में हम पहली बार मिले थे।

हाँ, याद हैं, तुमने तो मुझे आवारा बिगड़ा हुआ लड़का समझ लिया था।

हाँ, तो क्या... उस समय मैं तुम्हें थोड़ी जानती थी और फिर किसी भी अंजान पर मैं ऎसे कैसे भरोसा कर सकती थी।लेकिन उस रात तुम नहीं मिले होते तो पता नहीं.. मेरा क्या होता?
अरे, और क्या होता.. मैं नहीं तो कोई और आ जाता.. और अभी तुम उस के साथ बैठ कर.. इस एक कप ☕चाय का आनंद ले रही होती।
दोनों मुस्कुराते हैं
Uma vaishnav

Read More

प्रेम का दीपक जलता रहे,
तमस नफरतों का मिटजाये।

_Uma vaishnav

रहे अपनों का साथ,
चाहे कम हो बात,
मन में जगे रहे जज्बात,
आप सभी को सुप्रभात,

__Uma vaishnav

हमें भा गया मुस्कुराना तेरा,
आज भी मेरे ख़्वाबों पर पेहरा हैं तेरा।
_Uma vaishnav

शायरों की महफ़िल में हम अनाड़ी आ गये,
सुनानी थी शायरी हम हाले दिल सुना गये।
__Uma vaishnav

चलो आज कुछ दिल की बात हो जाये,
मैं दिल पर हाथ रखूँ और तेरा दीदार हो जाये।
__Uma vaishnav

फ़ेक आईड़ी
**********

रोहन_hello,
पूजा _Hi
रोहन_ कहाँ से हो?
पूजा _कोटा,और तुम
रोहन_मैं भी कोटा से ही हूँ।
पूजा_Ohh. . Good
रोहन_क्या हम मिल सकते हैं
पूजा_ठीक है,पर मिलना कहांँ है?
रोहन_वही जहाँ कोई आता जाता नहीं।
पूजा_Ok लेकिन मिलने से पहले. मेरा दीदार तो कर लो.. मैं विडियो कॉल कर रही हूँ
रोहन_Ok
रोहन विडियो कॉल करता है, सामने से विडियो कॉल रिसीव होता है, पूजा और कोई नहीं उसका खास दोस्त राहुल होता है उसे देख रोहन कहता हैं.. अबे तू.. फ़ेक आईड़ी

Uma vaishnav

Read More

परिस्थितियाँ चाहे कोई भी हो, हमें हिम्मत नहीं हारनी चाहिये।

Uma vaishnav

हरि गीतिका छंद में प्रेरक गीत.... 🙏 🙏

epost thumb