भावों की ये, अभिव्यक्ति शब्दों के आधार है मेरी कलम ही, मेरे अस्तित्व की पहचान है.

राधे - राधे

राधे - राधे जापे से ,
श्री कृष्ण चले आते हैं,
प्रेम की मुरलीया खूब बजाते हैं,

राधे - राधे बोलो तो,
श्याम चले आते हैं,
भगतों अपने दरश दिखाते हैं

राधे - राधे काहोगें तो,
कान्हा चले आयेगे ,
भगतों के सारे कष्ट मिटागे।

Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित

Read More

मेहमान
*******

घर होता है वो बड़ा महान,
बढ़ती रहती उसकी शान,
वहां सदा निवास करे भगवान,
जहाँ आते रहते हैं मेहमान

उमा वैष्णव
मौलिक और स्वरचित

Read More

पैसा

पैसा गरीब की जरूरत
पैसा अमीर का गुमान,
पैसा मान बढ़ाये,
पैसा छीने सुख - चैन,
पैसा नाच नाचये,
भले - भले को आज,
पैसा बोलता है
अपनी ही जुबान,,,,,

Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित

Read More

Hi, Read this story 'घूँघटवाली लड़की' on Matrubharti
https://www.matrubharti.com/book/19871161/ghunghatwali-ladki

हम समझदार हो गए

दुनिया की भीड़ में,
हम कहीं खो गए,
और लोग कहते हैं,
हम समझदार हो गए।
जिम्मेदारीया निभाने मे,
सपने कहीं खो गए,
और लोग कहते हैं,
हम समझदार हो गए।
रिश्ते निभाते - निभाते,
दिल की इच्छाएं खो गए,
और लोग कहते हैं,
हम समझदार हो गए ।

उमा वैष्णव
मौलिक और स्वरचित

Read More

अटल युग
********

निशब्द है धरा भी , असमान भी खामोश है,
बोलती है कलमें, अटल युग ही खामोश है।

बोलते हैं शब्द, बातें कर रही है कहानियाँ,
बार बार दौराहाती,अटल युग की कहानियां।

गूँज उठा अंबर भी , तोपे दे रही सलामियाँ,
लिख रही कलम, अटल युग की कहानियां।

थम गई है आज साँसे, नाम अमर कर गये,
अटल रहे, अटल जीये,नाम अटल कर गये।

Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित

Read More

राखी
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺

प्रेम और सम्मान की राखी,
बहन ने भाई को बांधी राखी,
है अटूट और प्यारा बंधन,
भाई - बहन के स्नेह की राखी

Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित

Read More

ईद

ईद का चाँद,
बड़ा ही मनभावन,
सुंदर दिखे।
🌺🌺🌺🌺🌺🌺
ईद की रात,
अनोखी हो ये रात,
मुबारक हो।
🌺🌺🌺🌺🌺🌺
ईद के दिन,
दे सुंदर सौगात,
एक दूझे को।
🌺🌺🌺🌺🌺🌺

Uma vaishnav
मौलिक और स्वरचित

Read More

सोम आया,
मंगल गया,
बुध, गुरु भी,
निकल गये,
शुक्र, शनि,
कैसे बीते,
अब बारी,
इतवार की,
सब को राहत,
मिली, पर
मेरी गाड़ी तो,
यूहीं चली,
और काम,
बढ़ गया,
जाने मेरा
इतवार कहाँ गया... 🤔

Uma vaishnav
स्वरचित और मौलिक

Read More