Clinical .

आ ले चलूँ तुझको समृद्धि के शहर में, जहां चारों ही प्रहर, बस प्यार प्यार हो , गाती हो जहां खुशीयाँ, जहां गम उदास हो, तु चाहे वो मिल जाए , नाकाम कुछ ना हो।

-Urvish Patel

Read More

आज तक ऐसा कभी नहीं हुआ की बसंत से पहले पतझड़ ना आई हो. हर एक पतझड़ बसंतकी तैयारी है.

-Urvish Patel

बचपन भी बडा अजीब था . खेलते थे सब , पर खिलाड़ी कोई नहीं था.आपस में लडते थे बहुत , पर पराया कोई नहीं था.ना कोई राग ना कोई द्वेष था.बचपन तो बचपन ही था.

-Urvish Patel

Read More

આપણી સુવિધાઓ માટે રોજ કેટકેટલાં વૃક્ષો શહિદ થાય છે ? એવા શુરવીર પરોપકારી જીવોને કોટિ કોટિ વંદન.

Read More

पीली धूप पहनके तुम देखो बाग में मत जाना , भमरे तुझको सब छेडेन्गे फूलों में मत जाना .
#પીળો

कुछ पाने के लिए बहुत कुछ पाना पडता है .

-Urvish Patel

નથી જોયાં એકબીજાને રૂબરૂં , પણ જ્યારે આપણે મળીશું પહેલી જ વાર , ત્યારે કેવું હશે ? એ ખુશખુશાલ દ્રશ્ય !
#દ્રશ્ય

Read More

बहुत दुर है मेरे शहर से तेरा शहर , अक्सर हवाओं से पूछा करता हूँ तेरी खबर अंतर .

-Urvish Patel

डूबाना चाहे तो बार बार डूबूंगा , पर तेरे सिवा कोई और साहिल मंजूर नही.

-Urvish Patel

આજે પણ ખુશખુશાલ રહો છો
તમે મારા સપનાં માં ,
ક્યારેક
અજમાવી તો જુઓ , શુ એ હુનર છે તમારામાં ?

-Urvish Patel

Read More