jiyo to har pal yesa jiyo jese ki akhri ho

खामखा मैंने गहराई पसद की,
कोई उतरा ही नहीं मेरी सोच तक।

-Vasu

कर्म सभी को अपने याद रहते है साहब,
यु ही नहीं गंगा किनारे भीड़ लगी रहती है।

-Vasu

जो समझाये ओ इश्क ,
जो समझें ओ दोस्ती।
vasu

आज भी जब तक माँ को बता ना दु
पँहुचकर कहीं भी, पहुँँचता नहीं हु।

vasu

शोक की उम्र में,
हमने सब्र रखना सिख़ लिया।

🚩 vasu🚩

Thank you🙏🙏

epost thumb

में 'किसी से' बेहतर करुँ क्या फर्क पड़ता है,
मे 'किसी का' बेहतर करुँ बहुत फर्क पड़ता है।

-Vasu

खोना नहीं है तुम्हें,
इस लिए पाने की जिद नहीं
vasu

मेरे मरने पे लाखों रोये गे,
मेरे रोने की किसी को परवाह नहीं।

-Vasu

किसी को उजाड़ के बसे तो क्या बसे,
किसी को रुला कर हंंसे तो क्या हंंसे।

-Vasu