i feel..i express

कुछ यूँही तुजसे दूर हुए है तेरी ही खातिर,
माना तेरे चाहनेवालो की भीड़ थोड़ी ज्यादा थी।

दिल कहे रहा है चल उसे भुला दिया जाए,
चाहत कहे रही है एक गुनाह ओर किया जाए।

मेरे बारेमे जान लिया करो।

तुमसे आज एक गुज़ारिश है,
समजो दील की एक साजिश है

मगरूर है हम तेरे प्यारमे इस कदर,
तू भी रहे बेपनाह इतनी ख्वाइश है।

Read More

कहानी हमारी जरासी अलग है,
आप पत्थरोंमें खुदा तलाशते हो,
हम अपने मे ही आपखुदा है।