मैं कथानक ठहरा हर कहानी का-- follow me on Instagram- सनातनी_जितेंद्र मन

गाफिल! पड़ा मन,दर्द-बेहिसाब सिने में छुपाये..
वर्षों बीत गए, देखे हुए उसको,......
जाकर कोई ये बात भी,मेरे चांद को बताये।
#दर्द_और_खामोंशियाँ
#बेवफाई_की_हद
#दर्द_छलक_जाता_है
#योरकोट_दीदी
#योरकोटबाबा
#सनातनी_जितेंद्र मन

Read More

तेरे-मेरे दरमियान,दिख रहे जो ये फांसले..
महज़ दिखावा हैं,ये और कुछ भी नहीं।
वक्त के हाथों में,बंधे मजबूर हैं,..
हकीक़त तो यह है.......
कि न तुम दूर हो,न हम दूर हैं।❤️
#रस्म_ए_उल्फ़त
#फांसले
#योरकोट_दीदी
#योरकोटबाबा
#सनातनी_जितेंद्र मन

Read my thoughts on @YourQuoteApp #yourquote #quote #stories #qotd #quoteoftheday #wordporn #quotestagram #wordswag #wordsofwisdom #inspirationalquotes #writeaway #thoughts #poetry #instawriters #writersofinstagram #writersofig #writersofindia

Read More

ज़िन्दगी का रास्ता तेरी तरफ़ था.....
खामखां कहीं और हम,ढूंढते-फिरते रहे।
#सनातनी_जितेंद्र मन
#ज़िन्दगीकारास्ता
#collab
#yqdidi
#YourQuoteAndMine
Collaborating with YourQuote Didi

Read More

हुआ कहाँ गणतंत्र अभी तक,
है मान्यगणों का रेला......
चोला बसन्ती रंगा जिसने,
उन संग खेल गया है खेला।
भ्रष्टाचारी-जाति-मजहबी,
कुपंथी डाले बैठे हैं डेरा...हुआ कहाँ...
गुण-गोबर हैं भये कवी,
भया शक्कर कुर्सी का चेरा।
डाल-खाल गिद्ध दृष्टि जमाये,
बैठा है लोभ-लुटेरा....हुआ कहाँ...
जागो हे शेर-ए-हिन्द लालों,
जागो संस्कृति के रखवालों।
फिर कब मिले?समय का फेरा,
सजा लो शिश पे भगवा सेहरा।
है अवसर आज सुनहरा.....हुआ कहाँ...
#भगवा_रंग_पहचान
#गणतंत्रदिवस
#आजादी_का_अमृत_महोत्सव
#आजादीमेरीनज़रमें
#योरकोट_दीदी
#योरकोटबाबा
#सनातनी_जितेंद्र मन

Read More

सोया नहीं हूं रात भर,इंतज़ार में ही रह गया।
नींद थककर सो गयी,मन जागता ही रह गया।।
#पीड़ा_मन_की
#दर्द_छलक_जाता_है
#जिंदगी_सें_शिकायते
#इंतजार_की_हद
#योरकोट_दीदी
#योरकोटबाबा
#सनातनी_जितेंद्र मन

Read More

आज फिर से वही बात भयी,तुमसे न कोई बात भयी।
तन्हाई में सारी रात गयी,अभिलाषी मन की मात भयी।।
बेशक! पड़े करना मगर,कभी तुम गम़ नहीं करना।
हालात चाहे कुछ भी हो,मुहब्बत कम नहीं करना।।
#शिकायतनकरेंगे
#रोनापड़ताहै
#जिंदगी_है_कैसी_ये_पहेली
#योरकोट_दीदी
#योरकोटबाबा
#सनातनी_जितेंद्र मन

Read More

हर दर्द को अपना लिया,
हमने नहीं शिकवा किया...

जो मिल गया सो मिल गया,
जो पाना था सो पा लिया।
संगीत है जीवन सुना तो,
इक राग मन ने गा लिया।

न जोर है न ही शोर अब,
है छायी उदासी भोर सब।
सूखा पड़ा उपवन जहां का,
सिसकता मन मोर है।

-सनातनी_जितेंद्र मन

Read More

इंतज़ार इतना भी न,करवा ए-जिंदगी.....
की तेरे मिलने से पहले ही,मौत आगोश में ले ले।

-सनातनी_जितेंद्र मन