નમસ્કાર મિત્રો, મારું નામ યાયાવર કલાર છે, જૂનાગઢનો રહેવાસી છું. વાંચન અને લેખનનો શોખ છે. લેખનમાં હાસ્યરસ એ મારો ગમતો વિષય છે. એ ઉપરાંત ટૂંકી વાર્તાઓ, લધુકથાઓ , નોવેલ વગેરે લખવાનો પ્રયત્ન કરું છું. આશા છે કે આ મારો પ્રયત્ન આપને ગમશે ...

कोई हिन्दू हिन्दू चिल्लाता रहा कोई मुसलमान मुसलमान,
इंसानियत अंधेरे कोने में बैठ कर सारी रात रोती रही

लडकिया तब तो ठीक था अब तो लड़के भी फ़ेसन के नाम पर पेर में काला धागा बांधने लगे है ??

इतने सालो बाद भी हमारा देश वही खड़ा है
क्या खाना चाहिए और क्या नही !

एक भी फ़ोटो या विडियो सोसियल मिडिया में डाले बिना भी हमारी दीवाली हैप्पी गुजरी

इस साल भी नए साल पर ईगो भारी रहा

पिछले दिनों दीवाली की साफसफाई में बीवी की मदद करते हुए मुझे मेरी खोई हुई डायरी मिल गई जिसमें दिमाग मे अचानक से आए कहानी लिखने हेतु प्लाट-आईडिया लिखा करता था अब लगता है अगली दीवाली तक कुछ नया सोचना नही पड़ेगा.

Read More

दिपावली की शुभकामनाएं

कुछ लोग मैदान के अंदर खेले........कुछ लोग बाहिर..

में एक तराजू लेके खड़ा हूँ इन दिनों
एक पलड़े में साहित्य लेखन है और दूसरे पलडे में पैसा कमाना हैं, दोनो एक साथ नही कर सकता, बहोत सी जिम्मेवारियां हैं, इसके लिए पैसा चाहिए, खैर अभी पैसे के पीछे हूँ.... happy diwali in advance.

Read More