यूँ तो होने को बहुत कुछ हो सकता है, लेकिन कुछ भी तो नहीं हूँ मैं किताबों के बिना...

    • 570