Hey, I am on Matrubharti! मैं सौ से ऊपर कहानियाँ लिख चुकी हूँ पर हर बार लगता है कि पहली ही है। हर एक शब्द हर बार उसी उत्साह से लिखती हूँ जैसे किसी का पहला प्यार या फिर पहली बारिश की बूँद । दिल से भाव रचती हूँ ताकि पाठक के भी दिल को स्पर्श कर जाए। बिना मक़सद सृजन मुझे पसंद नहीं, कुछ तो मोती पाठकों के हाथ आए जब वह कथा समंदर में गोता लगाए। अभिव्यक्ति की पहली शर्त संवेदना और आकर्षक शब्दजाल में लिपटी कहानी। लेखन महज़ शौक़ या टाइम पास नहीं बल्कि उन पात्रों को रिहाई देना है जो मानस में पक चुकी कथ्य रूप रेखा को पार करने हेतु खदबदाते हुए मेरी कलम की नोक पर बैठ अपनी बात कहलवाते हैं ।

    • 435
    • 660
    • 831
    • (12)
    • 1.4k
    • 1.1k
    • (11)
    • 2k
    • (11)
    • 2.6k
    • (15)
    • 2.7k
    • (28)
    • 2.8k
    • (15)
    • 4.4k