लिखने की आदत है. कई जगह लिखता हूँ, लेकिन कुछ चीज़ें बस किसी एक ही जगह लिखता हूँ. वही खास चीजें यहाँ लिखता हूँ. आप पढ़कर बताते रहिये कि कितना सही और कितना ग़लत लिखा है. बाकी आप मुझे गूगल सर्च इंजन से लेकर अमेज़न, फेसबुक और इंस्टा, कहीं भी सर्च कीजिये, ज़रूर मिलूँगा. नहीं तो मेरा कुछ लिखा हुआ ज़रूर मिलेगा. जुड़े रहिये. हौसला मिलता है. लिखी हुई किताबें- खयालों का अभिलेख, चार अधूरी बातें, बाकी बातें, बुद्ध होने का मन है, फ़रेब का सफ़र.