अनमिका हु मे कए जस्बात के चंद लफ़्ज़ हु मे , ना नाम मेरा हे कोए क्योंकि अनमिका हु मे