अभिषेक शर्मा नाम है अभिषेक लिखता हूँ, जो दिल में आता है वो लिखता हूँ। अच्छा या बुरा बस लिखता हूँ जो बातें बुरी लगी तो उसे बदलने के लिए जो बातें अच्छी लगी उसे बढ़ावा देने के लिए देश के लिए लिखता हूँ मोहब्बत के लिए लिखता हूँ मोहब्बत मेहबूब से मोहब्बत वतन से, मोहब्बत अपने फ़र्ज़ से बाकि तो आप सब है, खुद ही निश्चित कीजिये कैसा हूँ। बस इतना है कि दर्द,तकलीफों और परेशानी से पुरानी रिश्तेदारी है मैं तो एक आईना हूँ , सच कहने की मेरी जिम्मेदारी हैं

    No Novels Available

    No Novels Available