नया सवेरा - (सवेरे का सूरज) - 10

by Yashvant Kothari Matrubharti Verified in Hindi Novel Episodes

अन्ना के पास बहुत सा समय खाली रहता। करने को कुछ विशेप नहीं था। ऐसे में वो स्वयं में खो जाती। कुछ न कुछ सोचती रहती। कमरे में अकेली बैठी प्रवासी जीवन पर सोचने समझने के प्रयास करती। अन्ना ...Read More