Bauji and monkey by Suryabala in Hindi Humour stories PDF

बाऊजी और बंदर

by Suryabala in Hindi Humour stories

सूर्यबाला उन्‍हें फिर से बच्‍चों की बहुत याद आ रही है। सुनते ही मैंने सिर कूट लिया। सिर कूटने की बात ही थी। अभी साल भी तो पूरा नहीं हुआ, संदीले में आए ही थे। एक-दो नहीं, पूरे छह ...Read More