Kota - 30 by महेश रौतेला in Hindi Fiction Stories PDF

कोट - ३०

by महेश रौतेला Matrubharti Verified in Hindi Fiction Stories

कोट-३०मेरे लिखे तीन पन्ने मेरी कोट से निकले और मैं उन्हें पढ़ने लगा।"आज एक वरिष्ठ पेड़ देखा।तना उसका मोटा था।डालियां झुकी हुई। फूल उस पर आते हैं पर कम। फल भी पहले से कम ठहरते हैं। गर्मी, सर्दी और ...Read More