Lekhak नहीं हूं bt लिखती हूँ dil ki Kalam से, Bharti हूं bhavnao के rang...utaar देती हूं फिर jajbaton को duniya में...dekhe palat के क्या laate है वो..😘🤩

    • 1.2k
    • 3.2k