M.sc(chemistry),B.Ed प्रिय दोस्तों, रसायन विज्ञान की प्रयोगशाला में पता नहीं ऐसा कौन सा केमिकल रिएक्शन हुआ कि मैं साहित्य का हो गया।अब साहित्य लिखता हूँ, साहित्य गाता हूँ और साहित्य जीता हूँ। तो दोस्तों, जिंदगी एक उपवन है और हम सब उसके फूल, खुद महकें और दूसरों को भी महकाएं।। धन्यवाद, राकेश सागर

    • (9)
    • 168
    • (4)
    • 117
    • (7)
    • 107
    • (10)
    • 308
    • (4)
    • 148
    • (5)
    • 135
    • (2)
    • 78
    • (2)
    • 92
    • (2)
    • 106
    • (7)
    • 156