पढ़ने का शौक लेखन तक ले आया ।पहले कुछ लेख और कविताएं लिखीं लेकिन कल्पनाओं की उड़ान जल्दी ही कहानियों तक ले आई । दोस्तों ने प्रेरित किया और पहला कहानी संग्रह परछाइयों के उजाले आया जिसे बहुत प्रशंसा मिली । इसके बाद आया उपन्यास छूटी गलियाँ जो अब मातृभारती पर भी उपलब्ध है । एक अन्य कहानी संग्रह कछु अकथ कहानी की कुछ कहानियाँ भी आप मातृभारती पर पढ़ सकते हैं । शीघ्र ही एक साझा उपन्यास देह की दहलीज पर लेकर आ रही हूँ मातृभारती पर ।

    • (79)
    • 12.9k
    • (48)
    • 9k
    • (47)
    • 8.2k
    • (51)
    • 7.9k
    • (42)
    • 7.9k
    • (46)
    • 9.2k
    • (44)
    • 9.8k
    • (43)
    • 9.7k
    • (44)
    • 10.7k
    • (41)
    • 14k