इतना तो जिंदगी में किसी की खलल पड़े, हंसने से हो सुकूं, ना रोने से कल पड़े,

    • 532
    • 690
    • (11)
    • 662