ज्यादा ख्वाइशे नहीं है मेरी, बस अगला लम्हा , पिछले से बेहतर हो, यही ख्वाइश है