मेरा नाम पद्मा शर्मा है, मेरे 2 कहानी संग्रह छपे है। मुझे स्त्री जीवन ही नही हर प्राणी के दर्द और खुशी की कहाणी कहने में सुख मिलता है।