मन्नू की वह एक रात, बेनज़ीर-दरिया किनारे का ख्वाब, वह अब भी वहीं है(उपन्यास)मेरी जनहित याचिका, हार गया फ़ौजी बेटा , औघड़ का दान , नक्सली राजा का बाज़ा , मेरे बाबू जी , मेरा आख़िरी आशियाना (कहानी संग्रह) खण्डित संवाद के बाद ( नाटक).कहानी ,पुस्तक समीक्षाएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित . हर रोज़ सुबह होती है (काव्य संग्रह) एवं वर्ण व्यवस्था पुस्तक का संपादन .लखनऊ में ही लेखन, संपादन कार्य में संलग्न. पुरस्कार-मातृभारती रीडर्स च्वाइस अवार्ड-2020.... 9919002096

    • (12)
    • 1.8k
    • 1.1k
    • 1.4k
    • 1.1k
    • 1.2k
    • (12)
    • 1.5k
    • 1.3k
    • 1.5k
    • 1.3k
    • 1.5k