65 पुस्तकें प्रकाशित। जिनमें- 12 उपन्यास, 15 कहानी संग्रह, 3 किशोर उपन्यास, 3 संस्मरण पुस्तकें, 3 आलोचना पुस्तकें, 10 बाल कहानी संग्रह सहित यात्रा संस्मरण,लघुकथा पुस्तकें, साक्षात्कार, जीवनी (दोस्तोएव्स्की के प्रेम),आदि के अतिरिक्त तोल्स्तोय के अंतिम और अप्रतिम उपन्यास 'हाजीमुराद' और तोल्स्तोय पर 30 संस्मरणों -"तोल्स्तोय का अंतरंग संसार"(उनके परिजनों,मित्रो,लेखकों आदि के संस्मरण) का अनुवाद । शीघ्र प्रकाश्य- 1. हेनरी त्रायत लिखित तोल्स्तोय की जीवनी 'तोल्स्तोय' (700 पृ.) का अनुवाद। सम्मान - हिन्दी अकादमी दिल्ली से 1990 और 2000, उ.प्र.हिन्दी संस्थान से 1994,और आचार्य निरंजन नाथ सम्मान 25.12.2013 विशेष: (1) समस्त कृतियों पर "रूपसिंह चन्देल का साहित्यिक मूल्यांकन"(336 पृ.) (2) 22 छात्रों द्वारा पी-एच.डी. और एम.फिल.