मेरा नाम संगीता गुप्ता है गुलाबी शहर जयपुर से हूं। रसायन शास्त्र में एमएससी किया लेकिन कभी अध्यापन नहीं किया। अपने व आसपास के बच्चों को ही पढ़ाती रही । साहित्य की सभी विधाओं से जुड़ी हुई हूँ। फिर भी कविताएं लिखना मुझे ज़्यादा अच्छा लगता है । अभी तक कविताओं की दो पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है। मंच संचालन करना मुझे बहुत अच्छा लगता है। प्रकृति से प्रभावित रहती हूं और परिस्थितियों से भी । कई वर्षों से लिख रही हूं और अब सोशल मीडिया से जुड़ कर एक मंच मिला है ।समाज सेवा करती हूं शास्त्रीय संगीत मैं

    • (11)
    • 858