अल्फ़ाज़ो में बयान हो जायें इत्नीआसान हक़ीक़त नहीं हम श्रद्धा रामानी