Best biography in English, Hindi, Gujarati and Marathi Language

यादों के झरोखे से Part 9
by S Sinha
  • 135

यादों के झरोखे से  Part 9            ================================================================ मेरे जीवनसाथी  की  डायरी के कुछ पन्ने -ऑस्ट्रेलिया में नाईट क्लब का अनुभव और ऑस्ट्रेलिया की पहली ...

चार्ली चैप्लिन - मेरी आत्मकथा - 3
by Suraj Prakash
  • 72

चार्ली चैप्लिन मेरी आत्मकथा अनुवाद सूरज प्रकाश 3 ये उसकी आवाज़ के खराब होते चले जाने के कारण ही था कि मुझे पांच बरस की उम्र में पहली बार ...

ते तीन तारे !
by Shivani Anil Patil
  • 246

तुम्ही ते तीन तारे पाहीलेत का? रात्रीच्या काळ्याभोर आकाशात नेहमी लखलखताना दिसणारे! मी गावी गेल्यावर मला ते नेहमी तिथल्या आकाशात लखलखताना दिसतात! पण इकडच्या मुंबईतल्या आकाशात साधा एखादा तारा ...

यादों के झरोखे से Part 8
by S Sinha
  • 81

यादों के झरोखे से  Part 8      Yadon ke  Jharokhe Se  ================================================================ मेरे जीवनसाथी  की  डायरी के कुछ पन्ने - आखिर ड्रीम डेस्टिनेशन ऑस्ट्रेलिया पहुंचना   ====================================================

चार्ली चैप्लिन - मेरी आत्मकथा - 2
by Suraj Prakash
  • 117

चार्ली चैप्लिन मेरी आत्मकथा अनुवाद सूरज प्रकाश 2 भूमिका वेस्ट मिंस्टर ब्रिज के खुलने से पहले केनिंगटन रोड सिर्फ अश्व मार्ग हुआ करता था। 1750 के बाद, पुल से ...

महापुरुष के जीवन की बात - 2 - सरदार पटेल
by Pandya Ravi
  • (24)
  • 345

                     प्रकरण : 1                   मित्रों,  पहले महापुरुष के जीवन पर बात करने ...

यादों के झरोखे से Part 7
by S Sinha
  • 147

यादों के झरोखे से  Part 7      ================================================================ मेरे जीवनसाथी  की  डायरी के कुछ पन्ने - पहली विदेशी धरती  ट्रिंकोमाली में  घोर निराशा मिली पर सिंगापुर मार्केट बहुत अच्छा ...

चार्ली चैप्लिन - मेरी आत्मकथा - 1
by Suraj Prakash
  • 141

चार्ली चैप्लिन मेरी आत्मकथा अनुवाद सूरज प्रकाश 1 ऊना को चार्ली चैप्लिन होने का मतलब फ्रैंक हैरीज़, चार्ली चैप्लिन के समकालीन लेखक और पत्रकार ने अपनी किताब चार्ली चैप्लिन ...

महापुरुष के जीवन की बात - 1
by Pandya Ravi
  • (30)
  • 486

                   महापुरुष के जीवन की बात  Ravi Pandya             ભારત માતા કી જય .          ...

यादों के झरोखे से Part 6
by S Sinha
  • 225

  यादों के झरोखे से  Part 6       मेरे जीवनसाथी की डायरी के कुछ पन्ने  -  बोकारो स्टील प्लांट का इंटरव्यू  और  ऑस्ट्रेलिया जाने वाले जहाज  पर पोस्टिंग  ================================================================= 12 ...

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 18 - अंतिम भाग
by Suraj Prakash
  • 117

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (18) अब आते हैं अनश्वरता की बात पर। मुझे कोई भी बात (इतनी) स्पष्ट नहीं लगती ...

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 17
by Suraj Prakash
  • 108

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (17) III चार्ल्स डार्विन का धर्म मेरे पिता ने अपने प्रकाशित लेखों में धर्म के बारे ...

यादों के झरोखे से Part 5
by S Sinha
  • 180

यादों के झरोखे से  Part 5     =========================================================== मेरे जीवनसाथी की डायरी के कुछ पन्ने  - पहला वेतन मिलने के समय का दिलचस्प ड्रामा  ===========================================================   3.जून 1968  आज मैं ...

यादों के झरोखे से Part 4
by S Sinha
  • 288

यादों के झरोखे से  Part 4    ================================================================ मेरे जीवनसाथी की डायरी के कुछ पन्ने  -  बॉम्बे में शूटिंग देखना फिर  पहली नौकरी शिपिंग में मिलना  ===============================================================

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 16
by Suraj Prakash
  • 108

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (16) अपने पाठक के प्रति उनका रवैया काफी शालीन और समाधान परक रहता था, और शायद ...

यादों के झरोखे से Part 3
by S Sinha
  • 294

यादों के झरोखे से  Part 3     ========================================================== मेरे जीवनसाथी की डायरी के कुछ पन्ने  - इंजीनियरिंग के बाद नौकरी की तलाश और निराशा  ==========================================================   11 जनवरी 1966   मेरा ...

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 15
by Suraj Prakash
  • 135

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (15) संकरण के इन प्रयोगों में यह साफ प्रकट होता था कि प्रत्येक प्रयोग विशेष के ...

यादों के झरोखे से Part 2
by S Sinha
  • 342

यादों के झरोखे से  Part 2    ================================================================  मेरे जीवनसाथी की डायरी के कुछ पन्ने  - मैट्रिक  , प्री यूनिवर्सिटी और इंजीनियरिंग में एडमिशन और चीनी आक्रमण  ===================================================

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 14
by Suraj Prakash
  • 132

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (14) जब बातचीत करते हुए वे अपने शब्दों में ही फंस जाते तो उनकी एक खास ...

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 13
by Suraj Prakash
  • 162

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (13) उसकी इन किलकारियों के अलावा भी उसका व्यवहार बहुत ही प्रेमपूर्ण, निश्छल, सहज, सरल था। ...

यादों के झरोखे से Part 1
by S Sinha
  • 567

यादों के झरोखे से Part 1  ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------- मेरे जीवनसाथी की डायरी के कुछ पन्ने  - मैट्रिक की परीक्षा और कलकत्ता यात्रा  बना एडवेंचर    -----------------------

વિદ્યાનગરી આણંદની ભૂમિના તપસ્વી શિક્ષક :- નીતિનભાઈ પ્રજાપતિ
by Parth Prajapati
  • 188

અમેરિકાના ૩૫માં પ્રમુખ જ્હોન એફ. કેનેડીએ પોતાના દેશના નાગરિકોને સંબોધીને એક વાર કહ્યું હતું કે, " ન પૂછો કે દેશ તમારા માટે શું કરશે, એમ કહો કે તમે દેશ ...

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 12
by Suraj Prakash
  • 159

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (12) उनकी साहित्यिक रुचि और अभिमत उस स्तर के नहीं थे, जितना तेज़ उनका दिमाग़ था। ...

छत्रपति संभाजी महाराज
by Slok
  • (22)
  • 690

आज ऐसे इंसान की बात करूंगा हो सके आपकी आत्मा कांप जाए, एक बात कहूं अगर आप में हिम्मत है तो स्टोरी पूरी पढना, और कोशिश करना अपने आंसुओं ...

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 11
by Suraj Prakash
  • 147

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (11) वैसे तो वे बगीचे को सजाने संवारने में कोई हाथ नहीं बंटाते थे, लेकिन फूल ...

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 10
by Suraj Prakash
  • 213

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (10) मेरे पिता के दैनिक जीवन के संस्मरण फ्रांसिस डार्विन इस लेखन के पीछे मेरा उद्देश्य ...

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 9
by Suraj Prakash
  • 150

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (9) मुझे ऐसा भी लगता है कि मेरे दिमाग में कुछ खराबी भी थी, जिसके कारण ...

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 8
by Suraj Prakash
  • 183

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (8) मैं यहाँ यह भी कहना चाहूँगा कि मेरे समीक्षकों ने मेरे कार्य को ईमानदारी से ...

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 7
by Suraj Prakash
  • 219

चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (7) डाउन में घर - 14 सितम्बर 1842 से लेकर वर्तमान 1876 तक सर्रे और दूसरे स्थानों पर काफी ...

મિત્રો.....
by ધ્રુવ પ્રજાપતિ
  • 222

મિત્રો જેટલા મળ્યા છે બહુ ઊંચા ગજાના મળ્યા છે.આજે કંઈ ભારે ભારે નથી લખવું બસ એક હલકું ફુલકું લખવું છે. મારા જીવનમાં મારા માતા-પિતા બાદ સીધો બીજો નંબર ભૈબંધ (મિત્રો) નો ...