Best Adventure Stories stories in hindi read and download free PDF

कहानी की कहानी की कहानी - 17 - नर भेड़िया
by कलम नयन
  • 50

सामन्त के माथे पर उसने अलग अलग तरह के लेप लगाए और उसके बालों में सुगंधियाँ दीं। फिर पानी के छींटे मारकर उसे जगाया। आँखें खोलते ही सामन्त चिल्लाने ...

बंशो मुझे अच्छी लगने लगी
by राजनारायण बोहरे
  • 157

कहानी                            बंशो मुझे अच्छी लगने लगी    राजनारायण बोहरे   प्रिय सुरेश,                               ये क्षेत्र छत्तीसगढ़ कहलाता ...

पता, एक खोये हुए खज़ाने का - 13
by harshad solanki
  • 226

आखिर वे उस द्वीप के नजदीक पहुँच गए. अभी किनारा काफी अंतर पर था. दूर से देखा, द्वीप घने जंगलों से भरा पड़ा था. लगता था, यह द्वीप मानव ...

कहानी की कहानी की कहानी - 16 - एक अभागे सामंत की कहानी
by कलम नयन
  • 99

"जहर डालना होता तो पहले वाले में ही डाल देती मुरली। मैं ये तो नहीं कहूँगी कि भरोसा करो, पर हाँ इतना ज़रूर कहूँगी कि मैं कोई हत्यारिन नहीं ...

अनजाने लक्ष्य की यात्रा पे - भाग 23
by Mirza Hafiz Baig
  • 214

पिछले भाग में आपने पढ़ा कि व्यापारी ने अपनी कथा में बताया कि अभियान सहायक ने किस तरह अपने अनुभवों की कथाओं द्वारा व्यापारी की शंकाओं का समाधान करने ...

समानांतर ब्रह्माण्ड
by suraj sharma
  • 186

बचपन में हम सबने कहीं ना कहीं एक बार तो सुना होगा कि हमारे जैसे दिखने वाले ७ लोग इसी किसी दुनिया में रहते है..क्या लगता है आपको ये ...

कहानी की कहानी की कहानी - 15 - कहने और न कहने वाले
by कलम नयन
  • 160

खैर मैं बहुत देर तक छटपटाता रहा। मैंने चीख़ने की कोशिश की तो मेरे मुँह से कोई आवाज़ न निकली। तभी उस आदमी ने मेरे पेट पर ज़ोर से ...

पता, एक खोये हुए खज़ाने का - 12
by harshad solanki
  • (13)
  • 511

नानू: "ये तस्वीरें तो एक भरम मात्र है. मगर असल बात कुछ और ही है." इतना कहते हुए नानू बड़े रहस्यमय तरीके से हंसा. नानू की ऐसी भेदभरी हंसी ...

कहानी की कहानी की कहानी - 14 - अंत?
by कलम नयन
  • 137

वो पल शायद किले में बीती मेरी ज़िन्दगी का सबसे खौफनाक पल था। मेरे मुँह से आवाज़ नहीं निकली। मैंने अपने दोनों हाथों को अपने दोनों तरफ रखकर उठने ...

कहानी की कहानी की कहानी - 13 - ज़मीन के नीचे
by कलम नयन
  • 157

वो औरत इतना कहकर मुस्कुराते हुए चली गई। मैं भीतर से अपमान में जल रहा था पर मैं कुछ नहीं कह पाया। सुबह हो चुकी थी। छोटी सरकार चुपचाप ...

अनजाने लक्ष्य की यात्रा पे- भाग -22
by Mirza Hafiz Baig
  • 317

पिछले भाग में आपने पढ़ा- अपने मित्र गेरिक, अभियान सहायक और सेनापति के राजनीतिक षड्यंत्रो से व्यापारी क्षुब्ध है। क्या उसकी शंकाओं का निवारण होता है? आगे कहानी क्या ...

कहानी की कहानी की कहानी - 12 - चेतावनी
by कलम नयन
  • 222

कुछ ही पलों की देरी थी। वो साँप उसे नोचते रहे और मैं कुछ न कर सका। पूनम चीख रही थी। बिलकुल वैसे ही जैसे उस रात सीता चीख ...

पता, एक खोये हुए खज़ाने का - 11
by harshad solanki
  • 610

पर सेठ के लड़के को यह कहाँ पता था, कि उसने इस तरह वापस पलट कर बहुत बड़ी गलती कर दी थी! जैसे वह पलता नहीं था! उसके नसीब ...

कहानी की कहानी की कहानी - 11 - मेड्यूसा का शाप
by कलम नयन
  • 190

इसके बाद मेमसाहब मुझसे कुछ न बोलीं। मैं उनकी बातें सुनकर इतना भर गया था कि मेरी कुछ पूछने की हिम्मत भी नहीं हुई। उन्होंने कुछ और देर छोटी ...

शिकारी भेड़िया
by रनजीत कुमार तिवारी
  • 325

प्रिय पाठकों मेरा सादर प्रणाम मैं आप सबके लिए एक कहानी लेकर आया हूं जो मेरे जीवन की घटनाओं में से एक है। कोई गलती हो जाए तो माफ़ ...

कहानी की कहानी की कहानी - 10 - हिदायत
by कलम नयन
  • 175

खिड़की से रोशनी भीतर आने लगी थी। सल्ली उछलकर छोटी सरकार के बिस्तर पर चढ़कर उनके आसपास कूदने लगी और मैं अपने कमरे में आ गया। अपने कमरे में ...

आँखें, जो मौत देख सकती हैं...
by NISHA SHARMA ‘YATHARTH’
  • 442

हैलो हैलो, हैलो हैलो , हां , बोलो मैं सुन रही हूँ । क्या हुआ, सब ठीक है न ? तुम बात करते करते अचानक चुप क्यों हो गयी ...

अनजाने लक्ष्य की यात्रा पे - भाग - 21
by Mirza Hafiz Baig
  • 368

अब तक आपने पढ़ा... जासूस की पीठ पर वात्सल्य से हाथ फेरते हुये उसे सजा से बचाने की कोशिश करते हुये अचानक उसे षड्यंत्र पूर्वक मार दिया गया। व्यापारी ...

पहली बारिश
by maroti gangasagare
  • 365

                                  पहली बारिश -------------------------------------------------------------------------         जून माह प्रारंभ हो चूँका था ...

कहानी की कहानी की कहानी - 9 - नागिन?
by कलम नयन
  • 255

जब हम अपनी जान पहचान के लोगों के आसपास होते हैं तो वे अलग अलग तरीकों से हमारे अस्तित्व का सम्मान करते हैं, उसकी ज़रुरत का एहसास हमें दिलाते ...

पता, एक खोये हुए खज़ाने का - 10
by harshad solanki
  • 722

अपरिचित लोगों को दरवाजे पर खड़े देखकर उनके चेहरे पर प्रश्न भाव उभर आए. राजू: "नमस्ते आंटीजी! क्या हम नानू से मिल सकते हैं?" औरत: "जी. आप घर में ...

कहानी की कहानी की कहानी - 8 - मेड्यूसा
by कलम नयन
  • 328

मेरे चेहरे से मानो रंग उड़ गया। उनकी पिछली कहानी अभी भी मेरे ज़हन में ताज़ा थी। मेरे पाप पर रची वो भयानक कल्पना जो उन तक कैसे पहुँची, ...

कहानी की कहानी की कहानी - 7 - शायद..
by कलम नयन
  • 303

मैं बहुत खुश था। बड़े सरकार की जोहार करके मैं अहाते के बाएँ और बनी रसोई की तरफ चल दिया। जब मैं रसोई के दुआरे पहुंचा तो देखा की ...

अनजाने लक्ष्य की यात्रा पे- भाग -20
by Mirza Hafiz Baig
  • 377

अब तक आपने पढ़ा- किस प्रकार षड्यंत्र करके जासूस ने व्यापारी को अपने प्रेम के रास्ते से हटाने के लिये नस्लवादी विचारों के सहारे, सेना का विद्रोह खड़ा करने ...

कहानी की कहानी की कहानी - 6 - स्वार्थ
by कलम नयन
  • 408

मरते हुए सीता की चीखें मेरे कानों में गूँज रही थीं और सामने बड़े सरकार बैठे मुझे घूर रहे थे। मुझे ऐसा लग रहा था मानो वहाँ खड़े खड़े ...

कहानी की कहानी की कहानी - 5 - उम्मीद
by कलम नयन
  • 335

मैं आने वाली तबाही से अनजान था। वैसे भी मैं उसे रोकने के लिए कुछ नहीं कर सकता था। ऐसा नहीं है कि मैं डरपोक हूँ या कायर हूँ, ...

पता, एक खोये हुए खज़ाने का - 9
by harshad solanki
  • 698

इस आपरेशन में समुद्री लुटेरों एवं अन्य दुश्मनों से भेंट होने की संभावना भी पुरी थी. उसके लिए बंदूकों, गोलियों और अन्य हथियारों की आवश्यकता रहती थी, पर वह ...

कहानी की कहानी की कहानी - 4 - समंदर के सौदे?
by कलम नयन
  • 318

मेरी आँखें खुलीं तो मेरे ठीक ऊपर एक नन्हा सा चेहरा मुझे निहार रहा था। मैं चौंक पड़ा। उसने सफेद रेशम का लंबा चोगा पहना था। मुझे बाद में ...

कहानी की कहानी की कहानी - 3 - वो जिसे एक नदी निगल गई
by कलम नयन
  • 391

Part-1मैं अपनी साँसें रोक कर सीता की आहट सुनने की कोशिश कर रहा था। मेरा पूरा शरीर किसी अनजाने डर की आशंका से पसीने से भीग चुका था। दीवार ...

पता, एक खोये हुए खज़ाने का - 8
by harshad solanki
  • 740

"अच्छा! वो क्या!?" जेसिका ने खुश होते हुए बड़ी बेताबी से पूछा. इसके उत्तर में राजू कहने लगा. "जब नानू ने उस तस्वीर, चाबी और नक्शे को देखा, तभी ...