Best Classic Stories stories in hindi read and download free PDF

एडल्ट के लिए सीख
by r k lal
  • 171

एडल्ट के लिए सीख आर 0 के 0 लाल                     चारों  दोस्त रमन, सुंदर, भूपत और रामबाबू एक बड़े होटल में डिनर पर बहुत दिनों के बाद आज ...

वेशभूषा
by राज कुमार कांदु
  • 75

किशन बेहद गरीब युवक था । धन संपत्ति के नाम पर उसके पास थोड़ी सी उपजाऊ जमीन और एक गाय थी ।  खेती किसानी में मन नहीं लगता था ...

गुमनाम रचनाकार-भूपेन्द्र डोंगरियाल की कहानियाँ - 4
by Bhupendra Dongriyal
  • 49

        कोरोना वायरस रोग जो अब कोविड-19 के नाम से जाना जाता है को अस्तित्व में आए हुए छः माह से भी अधिक समय बीत गया ...

हमदर्दी
by राज कुमार कांदु
  • 174

सूखे की मार झेल रहे किशन ने गाँव से पलायन कर शहर में अपना डेरा जमा लिया । शहर में पहले से ही रह रहे उसी की गाँव के ...

एहसासों के साये में
by rajendra shrivastava
  • 385

-कहानी एहसासों के साये में                                                     -राजेन्द्र कुमार श्रीवास्‍तव,                  ‘’हैल्‍लो!....कौन?.....कौन बोल......किससे बात करनी है?             ‘’मैं.....मैं बोल रही हूँ....’’             मुझे धुंधला सा कुछ

ढिंकचिका - ढिंकचिका
by HARIYASH RAI
  • 109

ढिंकचिका - ढिंकचिका   वर्ली की आलीशान इमारत दरवाजे पर कॉल बैल बजा कर अनिमेष  थोड़ी देर  हतप्रभ से खड़़े रहे. उन्हें अंदाजा था कि दरवाजा या तो  उनका ...

बाली का बेटा (21)
by राज बोहरे
  • 144

21                                                           ...

एटिकेट्स
by Prabodh Kumar Govil
  • 598

किसी की समझ में नहीं आया कि आख़िर हुआ क्या? आवाज़ें  सुन कर झांकने सब चले आए। करण गुस्से से तमतमाया हुआ खड़ा था। उसने आंगन में खड़ी सायकिल ...

बाली का बेटा (20)
by राज बोहरे
  • 154

20                                                        बाली का बेटा                                                               बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे     लड़ाई     अगले दिन सुबह अंग

आनंद
by HARIYASH RAI
  • 251

कहानी  आनंद पहाडि़यों के पीछे  सुबह  का सूरज झांकने लगा था. हवा में कुछ ज्यादा ही ठंडक थी. यात्रा के सीजन को शुरू हुए अभी दो दिन ही हुए ...

पागल-ए-इश्क़ (पार्ट -3)
by Deepak Bundela AryMoulik
  • 136

डूब कर तेरी तन्हाइयों में मुझें मर जानें दो.. !तिरे इश्क़ में जो मुझें  सवर जानें दो.. !!रेनू शून्य थी पर मन में कई सबाल उठ रहें थे और ...

उलझने से सुलझने तक
by Sandeep Tomar
  • 420

    “उलझने से सुलझने तक” / कहानी / सन्दीप तोमर   स्टेला जिन्दगी के थपेड़े झेलते हुए एक बार फिर दिल्ली आ गयी, रोहन का ठीक से कहीं ...

बाली का बेटा (19)
by राज बोहरे
  • 168

19                                                             बाली का बेटा                                                               बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे     लंका में अंगद     राम

देवास की वीरा
by Dr Jaya Anand
  • (16)
  • 1.2k

देवास की वीराप्रकृति और मन दोनों एकाकार हो रहे थे ,बाहर बादलों का गर्जन और मन के भीतर असहनीय पीड़ा का नर्तन ...देवास की महारानी वीरा की आँखे पथरा ...

बाली का बेटा (18)
by राज बोहरे
  • 185

18                                                       बाली का ...

भंवर में
by HARIYASH RAI
  • 132

कहानी   भँवर में ..... हरियश राय   चाहता तो वह गूगल के जनक सरगै ब्रिन की तरह बनना जिसकी वजह से गूगल दुनिया भर में मशहूर हो गया ...

जैकगोवर्धन और शेखन एलिज़ाबेथ
by Prabodh Kumar Govil
  • 370

मैं बरामदे में बैठा हुआ अख़बार पढ़ रहा था कि मेरी आठ वर्षीया बेटी दौड़ी दौड़ी आई और बोली- पापा पापा, आप कहते थे न कि सवेरे सवेरे देखा ...

बाली का बेटा (17)
by राज बोहरे
  • 174

17                                                         बाली ...

पागल-ए-इश्क़  (पार्ट -2)
by Deepak Bundela AryMoulik
  • 316

पागल-ए-इश्क़  (पार्ट -2)गाड़ी एयरपोर्ट परिसर मैं तेज गती से आकर रूकती हैं सभी लोग जल्दी जल्दी गाडी से उतरते हैं तभी रोहन अपनी मां से कहता हैं मम्मा आप अंदर ...

अटूट बंधन
by अनिल कुमार निश्छल
  • 192

रवि और कुसुम की शादी हुए अभी कुछ ही साल बीते थे।सभी लोग खुशी-खुशी रह रहे थे;लेकिन एक दिन एक दर्द विदारक घटना घटी।कुसुम अपनी सास से झगड़ा कर ...

बाली का बेटा (16)
by राज बोहरे
  • 148

16                                                             बाली का बेटा                                                             बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे   विभीषण से भेंट   हनुमानजी

बाली का बेटा (15)
by राज बोहरे
  • 182

15                                                             बाली का बेटा                                                             बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे   लंका में हनुमान          

अन्‍न जल
by HARIYASH RAI
  • 166

अन्न-जल   यदि भयानक तूफान से ऐसा होता, तो भी हरि सिंह चौधरी संतोष कर लेते, यदि भूकंप में उनके खेतों की जमीन धंस जाती, तब भी वे उफ़ ...

अखिलेश्वर बाबू
by Prabodh Kumar Govil
  • 374

वह सुनसान और उजड़ा हुआ सा इलाका था। करीब से करीब का गांव भी वहां से तीन चार किलोमीटर दूर था। रास्ता,सड़क कहीं कुछ नहीं, झाड़ झंकाड़, धूल धक्कड़, ...

बाली का बेटा (14)
by राज बोहरे
  • 158

14                                                             बाली का बेटा                                                           बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे हनुमानजी की वापसी   सुबह सूरज

हड़पने की नियत
by r k lal
  • (25)
  • 560

हड़पने की नियतआर ० के ० लाल            मिलन अपनी मस्ती मे चला जा रहा था तभी अपने फुलवारी में खटिया पर बैठे हुए अजोध्या काका ने उसे आवाज़ दी, जहाँ ...

एक अधूरी शाम - 1
by Anant Dhish Aman
  • 610

दिन ढलने के कगार पर थी और रात चढने की खुमार पर थी हवा गर्म से नर्म हो रही थी मौसम भी धीरे-धीरे लजीज हो रही थी टहलने का ...

बाली का बेटा (13)
by राज बोहरे
  • 198

13                                                                 बाली का बेटा                                                                         बाल   उपन्यास                                                                             राजनारायण बोह

पागल-ए-इश्क़ - 1
by Deepak Bundela AryMoulik
  • 310

दोस्तों.. नमस्कार.. ?आपके सामने एक फिर प्यार की कहानी के साथ मौजूद हूं... मेरा हमेशा से मकसद यहीं रहा हैं कि प्यार को समझें एक दूसरे की भावनाओं को ...

बाली का बेटा (12)
by राज बोहरे
  • 2.2k

12                                                         ...