Best Love Stories stories in hindi read and download free PDF

वो दीवानगी
by Sushma Tiwari
  • 169

वो दौर ही कुछ और था। फिजाओं में प्रेम खुशबु की तरह यूँ फैलता था कि बिन बताये चेहरे की चमक देख दोस्त जान जाए कि ये प्यार में ...

पूर्णता की चाहत रही अधूरी - 1
by Lajpat Rai Garg
  • 323

पूर्णता की चाहत रही अधूरी लाजपत राय गर्ग समर्पण स्मृति शेष मामा श्री वज़ीर चन्द मंगला को जो कॉलेज के समय में मेरी छुट-पुट रचनाओं के प्रथम श्रोता रहे ...

सुनहरी तितली-एक महोब्बत
by Rajesh Kumar
  • 144

तितली एक छोटा सा जीव जो हर किसी को अपनी ओर आकर्षित कर लेता है ख़ासकर बच्चों को। यदि तितली सुनहरे रंग की हो तो आकर्षण हजारों गुना बढ़ ...

ये दिल पगला कहीं का - 8
by Jitendra Shivhare
  • 81

ये दिल पगला कहीं का अध्याय-8 दोनों व्यवसायी सहभागिता रखते थे। पांच वर्ष पूर्व ऑफिस के कर्मचारी वंश कुमार की हत्या में संग्राम सिंह को संदिग्ध अपराधी के रूप ...

तुम ना जाने किस जहां में खो गए..... - 8 - वो मेरा खत
by Medha Jha
  • 174

बहुत खुश थी मैं उस रात, अगली सुबह की प्रतीक्षा करती हुई - पूरी उम्मीद के साथ कि जवाब आएगा ही और वो भी सकारात्मक। जैसे - तैसे रात ...

एक बूँद इश्क - 8
by Chaya Agarwal
  • 670

एक बूँद इश्क (8) "करीब पाँच बरस की रही होगी। तान्या नाम था उसका। एकदम गुडिया सी मासूम, मोटी-मोटी आँखें, चेहरे पर शरारत और गोल मटोल सी, बस रंग ...

फ्रेंड विथ बेनिफिट्स
by तेज साहू
  • 343

- एफडब्ल्यूबीलाइफ में अच्छे दोस्तों का होना बहुत ज़रूरी है, बाकी उतना ही ज़रूरी है कुछ खुरापाती दोस्तों का भी होना। क्योंकि आज ज्यादातर लोग दोहरी ज़िंदगी जी रहे ...

मिले जब हम तुम - 6
by Komal Talati
  • 182

                                                        भाग - 6                 एस. पी.जैन. इनसटीटयुट ओफ मैनेजमैंट कॉलेज के मेइन गेट पर आकर  आद्रिती ने जमीन को छुकर अपने आने वाले सुनहरे भविष्य की ...

उड़ान, प्रेम संघर्ष और सफलता की कहानी - आधाय-6
by Bhupendra Kuldeep
  • 159

राजधानी:-सुबह-सुबह प्रथम तैयार हो कर बस में बैठा और निकल गया, अपने नवजीवन के सफर पर।रायपुर बस स्टैण्ड पहुँचकर उसने रिक्शा लिया और पहुँच गया मयंक के पास।सुंदर नगर ...

दोस्ती से परिवार तक - 1
by Akash Saxena
  • 193

Brief intro-राहुलविकास-राहुल के पिता।सुुशीला-राहुल की माँ।रियाअविनााश-रिया के पिता।राधा-रिया की माँ ।रीमा-रिया की बहन।मनीषदीपक-मनीष के पिता।सिया-मनीष की माँ।_______________________कार का हॉर्न ज़ोर से बजते हुए कार मनीष के घर  रुकती है ...

इच्छाएं
by Lalit Rathod
  • 145

किसी मांगी हुए इच्छा के पूरा होने पर उन सिक्कों को याद करता हूँ, जिसे बहुत पहली किसी कुए में डाला कर भूल गया था. उस जल्दबाजी में की ...

तोसे नैना लागे पिया सांवरे - पार्ट - 4
by Dipti Methe
  • 229

              तोसे नैना लागे पिया सांवरे..! Part - 4           सुबह उठते ही देखा तो पापा उसकी तरफ देख हँस ...

ये दिल पगला कहीं का - 7
by Jitendra Shivhare
  • 120

ये दिल पगला कहीं का अध्याय-7 बबली के पैर एक बार फिसले तो फिर फिसलते चले गये। उसके चरित्र पर उंगलियां उठने लगी थी। एक समय वह भी आया ...

पतंग
by Sohail
  • 203

पतंग एक डोर से बंधी होती है , रिश्ता एक वादे से बंधा होता है , डोर टूटी तो पतंग कट जाती है ,भरोसा टूटा तो रिश्ता टूट जाता ...

दलदल
by SURENDRA ARORA
  • 308

लघुकथा   दलदल                                                                                                                                                         " लगता है आज  हमारी जान  का मूड कुछ ठीक नहीं है !"     " मूड क्या यार , घर - गृहस्थी  में

एक बूँद इश्क - 7
by Chaya Agarwal
  • 767

एक बूँद इश्क (7) उसे चिन्ता है कल परेश आ जायेगा और वह वापस दिल्ली लौट जायेगी। इन नये रिश्तों का क्या जो अभी-अभी ही बने हैं? पनपने से ...

साजिशे खुदा की भी होगी यू हीं तो हम मिले न होते।
by Shanti bamaniya
  • 207

इत्तेफाक से  तुम यूं ही हमें मिले ना होते टकराए ना होते कुछ तो साजिशे खुदा की भी होगी यूं ही तो हम मिले ना होते।तूफा आया है मेरे ...

एक घूँट भंग
by rajendra shrivastava
  • 257

कहानी                               एक घूँट भंग   -राजेन्‍द्र कुमार श्रीवास्‍तव,                                जब कोई अपनी चाहत ...

फिर मुलाकात होगी - 3
by Lalit Raj
  • 232

राज अपने सपने से हैरान था, अचानक अपने सपने में काजल को ऐसी हालत में देखकर वह उसके लिये और चिंतित होने लगा, जहां वो तीन वर्ष से उसे ...

प्यार से फिर मिल जाना
by Priyamvada Dixit
  • (11)
  • 632

जिंदगी भी कितनी अजीब होती है। कभी-कभी हमारे पास खोने को कितना कुछ होता है। लेकिन कभी-कभी हमारे पास कुछ खोने के लिए कुछ भी नही होता।  कई बार ...

अधूरी कहानी - 9
by Heena katariya
  • (15)
  • 581

जय और सना ऑफिस पहुंचते हैं। तभी जय कार पार्क करने में व्यस्त था और सना जय से कहती हैं। सना: सर!!? जय: ( कार को पार्क करते हुए) ...

तोसे नैना लागे पिया सांवरे - पार्ट - 3
by Dipti Methe
  • 242

                 तोसे नैना लागे पिया सांवरे..! Part - 3        कॉलेज में आते ही राघव ने अनु से बात करनी चाही ...

उड़ान, प्रेम संघर्ष और सफलता की कहानी - आधाय-5
by Bhupendra Kuldeep
  • 285

शाम के 5 बजने में 2 मिनट शेष रह गये थे, वह चैक गया और एसटीडी से फोन लगाया। उसे मालूम था कि अनु फोन के पास खड़ी होगी।हैलो, ...

आत्महत्या
by Lalit Rathod
  • 168

काश अपने अतीत में लाैटकर उस समय को फिर देख और छु सकते, जिसे हम अकेले में बैठकर याद करते है! अगर तुम्हे अतीत में जाने का मौका मिले तो किस छुटे हुए संबध को वर्तमान में लाना चाहोंगे? वह ...

तुम ना जाने किस जहां में खो गए..... - 7 - वह रात
by Medha Jha
  • 255

घर में सबकी लाडली मैं। जब जो चाहा , मिला। ननिहाल के भरे - पूरे छह नाना - नानी वाले परिवार के इस पीढ़ी की प्रथम संतान - सबका ...

मेरे कॉलेज की वो लड़की - 2
by ब्रिज भारतीय
  • 308

     अगले दिन में जब कॉलज गया आज मुझे उनसे बात करनी थी तो में लेक्चर में नहीं गया और पार्किंग में उसका इंतेज़ार करने लगा वो भी ...

शिकवा
by SURENDRA ARORA
  • 266

लघुकथा                                                      शिकवा                          ...

चाय का आशिक।
by Shanti bamaniya
  • 209

जिंदगी से चाय निकल जाए तो बाकी बस सिर दर्द बचता है। चलो तो फिर आज मोहब्बत की आच पर हम तुम इश्क वाली  चाय बनाते हैं। कप: आज ...

class -10 वाली लड़की
by Surya Shukla
  • 640

Chapter-1 हम सभी लोग अपनी जिंदगी की सबसे लंबी छुट्टियों पर है।इस छुट्टी के और बढ़ जाने की संभावना पर कोई संदेह नही करना चाहिए।हालात इतने नाजुक हो जाएंगे ...

इक मुलाकात जरूरी है सनम।।।
by Swati Solanki Shahiba
  • 386

बहुत दिनों बाद सांवली अपने कंप्यूटर अौर कंप्यूटर टेबल की सफाई कर रही थी। अौर उसकी नजर टेबल पर रखी अपनी कॉम्पिटेटिव एक्जाम की बुक पड़ी। सांवली सफाई को ...