Best Magazine stories in hindi read and download free PDF

सुरेश पाण्‍डे सरस डबरा का काव्‍य संग्रह - 7
by Ramgopal Bhavuk Gwaaliyar
  • 342

सुरेश पाण्‍डे सरस डबरा का  काव्‍य संग्रह  7                              सरस  प्रीत                       सुरेश पाण्‍डे सरस डबरा                                                   सम्पादकीय सुरेश पाण्‍डे सरस ...

सुरेश पाण्‍डे सरस डबरा का काव्‍य संग्रह - 3
by Ramgopal Bhavuk Gwaaliyar
  • 531

सुरेश पाण्‍डे सरस डबरा का  काव्‍य संग्रह  3                              सरस  प्रीत                       सुरेश पाण्‍डे सरस डबरा                                                   सम्पादकीय सुरेश पाण्‍डे सरस ...

वर्तमान पत्रकारिता एवं उसकी चुनौतियाँ
by Ramnarayan Sungariya
  • 633

आलेख--         वर्तमान पत्रकारिता एवं उसकी चुनौतियाँ                                              ...

भटकन ही भटकन
by Ramnarayan Sungariya
  • 624

-आलेख   भटकन ही भटकन                                                 ...

रामायण का थाईलैंड में प्रभाव
by vivekanand rai
  • 831

रामायण  ‘’राम’’ एक मंत्र, एक जादुई शब्‍द, मूर्तिमान ईश्‍वर, सर्वव्‍यापक, जो मिट्टी के कण-कण में विद्यमान है, एक कलीन राजा, सुशील राजकुमार, नील वर्ण देवता, जो विभिन्‍न संस्‍कृतियों और ...

सैक्स प्रेम नही
by Chaya Agarwal
  • (20)
  • 3.9k

जब तुम किसी की बाहरी सुन्दरता को देखते हो उसका चेहरा तुम्हे अच्छा लगता है उसकी कार्य शैली से तुम प्रभावित होते हो, उसे चाहने लगते हो, उसकी ओर ...

मानव में हिंसक प्रवृत्ति क्यों?
by Archana Singh
  • 870

मानव में हिंसक प्रवृत्ति क्यों?       हमारा देश विविधता में एकता का संदेश देता है। यहां के लोग सहिष्णुता का गुण रखते हैं, जियो और जीने दो को ...

वेबसीरीज़ों की वीभत्सता में आनन्द तलाशते हम।
by विवेक वर्मा
  • 1.4k

  सात से दस एपिसोडों में लांच होती वेब सीरीजें और लगभग हर वेब सीरीज में चाकुओं ,तलवारों और बंदूकों से की जाती खेप-खेप भर हत्यायें स्क्रीन पर पड़ते ...

My 277 Hindi Quotes
by Rudra Sanjay Sharma
  • 2.6k

पुस्तक के लेख आदि सभी वह उचित-अनुचित का ज्ञान एवं आत्म ज्ञान है जो मुझे उचित-अनुचित के चिंतन एवं आत्ममंथन से प्राप्त हुआ है। मेरा चिंतन ही इसका मूल ...

खबर
by Maya
  • 1.6k

???Khabar???खबर सुनकर के ही अलग-अलग मन में कई तरह के प्रश्न प्रकट होते हैं,जब किसी तरह की खबर आते हैं तो एक खबर से पूरी तरह से जीवन की ...

कोरोना काल में कविता से अलख जगाते मुक्तेश्वर
by Mukteshwar Prasad Singh
  • 1.7k

कोरोना महामारी में कविताओं से अलख जगाते-मुक्तेश्वर ​---------------------------------बिहार में 13 मार्च को वैश्विक कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए राज्य सरकार ने गाइड लाइन्स तय किये। इसी परिप्रेक्ष्य में ...

स्वशिक्षा
by Arjuna Bunty
  • 3k

प्रिय पाठकों,आज मै आप सबके सामने स्वशिक्षा की मदद से हिंदी साहित्य में, उपयोगी जानकारी  को आप लोगों के साथ साझा कर रहा हूं।ये आज का अंक आपको कैसा लगा इससे ...

मेरी माँ
by अनुभूति अनिता पाठक
  • 1.6k

तीज आने वाली है। हर सुहागन का एक ख़ास और ख़ुबसूरत त्यौहार। पहली बार तीज या युँ कहुँ तो पूरा सावन - भादो बहुत कुछ याद दिला गया .....रूला ...

रिमोट न्यूरल मोनिटेरिंग: इंसान को वश में करने की एक भयावह तकनीक
by Yashraj Bais
  • 1.6k

परिचय: क्या कभी आपने सोचा है, की किंचित ऐसी कितनी बातें होगी तो केवल और केवल आप जानते है। मनुष्य के दिमाग़ में ऐसे सहस्त्रों रहस्य होते हैं, जिन्हें  वह अपने अंतः ...

कोई तो नहीं देख रहा
by Neelam Kulshreshtha
  • 2.5k

५ जून ,'विश्व पर्यावरण दिवस 'पर विशेष लघुकथा कोई तो नहीं देख रहा [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] सेमीनार बहुत अच्छी रही, यूनिवर्सिटी के सीनेट भवन से लौटते हुये वे ...

जीवन में दस्तक देता सिनेमा
by VIRENDER VEER MEHTA
  • 1.6k

जीवन में दस्तक देता सिनेमा                ये कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि सिनेमा मानव जीवन का, अपने प्रारंभिक (उद्भव) काल से ही एक ...

आज जैसे ही उपयोगी थे पुराने नियम
by Omprakash Kshatriya
  • 1.7k

आज जैसे ही उपयोगी थे पुराने नियम कोरोना महामारी से दुनिया सिमटी बैठी है. इस महामारी ने दुनिया को नए सिरे से सोचने में मजबूर कर दिया है. अमेरिका, ...

कोरोना
by Monty Khandelwal
  • 1.8k

Corona एक तरफ जहाँ पूरा पूरा विश्व corona vairus से जुझ रहा है जिस वायरस की शुरुआत चीन के वुहान शहर से हुई। जहां पूरा बाजार एक मांसाहारी व्यंजन के कारण ...

तस्वीर
by Satender_tiwari_brokenwordS
  • (14)
  • 3.8k

ये कहानी एक काल्पनिक रचना हैं और इसके सभी पात्र काल्पनिक हैं। ___________________________________________तस्वीर एक ऐसी कहानी है , जहां एक दोस्त अपनी दोस्ती की दास्ताँ लिखता , दोस्ती होने के ...

पढ़ने का धैर्य
by kaushlendra prapanna
  • (13)
  • 2.9k

  कौशलेंद्र प्रपन्न शायद दुनिया में यदि कोई कठिन और श्रमसाध्य कार्य है तो वह पढ़ना ही है। कोई भी पढ़ना नहीं चाहता। हर कोई पढ़ाना चाहता है। हर ...

प्रेम - मैंने देखा है
by Shivani Mishra
  • (13)
  • 2.5k

पता है जब आप प्रेम में होते हो तो बहुत कुछ करते हो एक दूसरे के लिए पर कुछ वक्त बाद जब प्रेम थोड़ा सा पुराना हो जाये तो ...

कब तक ?
by Ritu Dubey
  • (11)
  • 3.4k

कुछ सवाल ऐसे है जिनके उत्तर हम सब जानते है फिर भी अनजान बने रहते है ...

प्यारी दोस्त - 1
by Unknown
  • 3.4k

मेरी दोस्त मुझसे नाराज़ थी , हा मेरी दोस्त कंजूस(दोस्त को कंजूस की उपमा) मुझसे नाराज़ थी। उसकी बात करू तो अब तक की मेरी सबसे अच्चीदोस्त ।       ...

थकावट, अकेलापन और तनाव से निपटने के लिए एक सरल विधि।
by Rakesh Sharma
  • 2.9k

“मुझे पता चला कि जब मैंने अपने विचारों पर विश्वास किया था, तो मुझे पीड़ा हुई, लेकिन जब मैंने उन पर विश्वास नहीं किया, तो मुझे पीड़ा नहीं हुई, ...

लक्ष्य
by Rudra
  • 2.5k

Book Title - ? Book Author - रूद्र नमस्ते, मेरा नाम रूद्र है । धन्यवाद !! आप सभी का मुझे इतना प्यार देने के लिए, IMRrudra की सोच को ...

उजड़ता आशियाना - अनकही दास्तान - 5
by Mr Un Logical
  • 2.1k

वह एक थकी हुई सी शाम थी,हर तरफ खामोशी फैली हुई थी।लग रहा था जैसे कोई तूफान गुजरा था।जिसके द्वारा किये गये बर्बादी पर मातम मनाया जा रहा हो।कई ...

मंजिल और रास्ते
by Rudra
  • 4.7k

Book Title – एक ख़ूबसूरत सफर By IMRudra Author – Rudra Book Description - मंजिल की ख़ुशी से ज्यादा अधिक ख़ूबसूरत वो सफर होता है जिस पर चलकर आप ...

“इश्क़ होना जरुरी है”
by Rudra
  • 2.2k

  Title - “इश्क़ होना जरुरी है”   Author – Rudra Presented by – IMRudra – The Life Coach Content Writer – Rudra            About The Author ...

उजड़ता आशियाना - जीवन पथ - 4
by Mr Un Logical
  • 1.9k

किसी ने क्या खूब कहा है।जन्म हुआ तो मैं रोया और लोग हँसे, मौत आयी तो सब रोये मैं चैन से सोता रहा।ऊँची नीची जीवन पथ पर चलते चलते, ...

फेक न्यूज़ के खतरें हज़ार
by Yashwant Kothari
  • 2.8k

फेक न्यूज़ याने झूठीं ख़बरों के  बड़े  खतरे                             यशवंत कोठारी फेक न्यूज़ के खतरे सर पर चढ़ कर बोलने लगे हैं. क्या सरकार ,क्या पार्टियाँ और क्या चुनाव ...