Hindi new released books and stories download free pdf

    पहली माचिस की तीली - 13
    by S Bhagyam Sharma

    पहली माचिस की तीली अध्याय 13 मुस्कुराहट हंसी में बदल गई। "क्या बात है तीनों जने एकदम आश्चर्य में पड़ गए...? काला गाउन पहनकर हाई कोर्ट जज अंतरात्मा को ...

    बागी आत्मा 14
    by रामगोपाल तिवारी (भावुक)

    बागी आत्मा 14   चौदह   सीमायें सुख देती हैं। सुख देने के लिए निर्धारित की जाती हैं। गरीबी और अमीरी की भी सीमा होती है। गरीबी सीमा से ...

    आज की द्रौपदी और सुभद्रा - 2
    by Sakhi

    धवल  शुभी से प्रणय निवेदन कर निर्णय लेने के लिए छोड़ जाता है । अब गतांक से आगे----          शुभी कुछ  देेर कर्तत्तविमूढ़ सी बैठी रही ...

    लहराता चाँद - 15
    by Lata Tejeswar renuka

    लहराता चाँद लता तेजेश्वर 'रेणुका' 15 अगले दिन से अनन्या ने घर और ऑफिस में अपना काम सँभाल लिया। ऑफिस में अनन्या की कामयाबी से सभी ने उसको बधाई ...

    कातिल - 2
    by Monty Khandelwal

    इतने में जोर से आवाज़ करते हुए पुलिस  और एंबुलेंस आ गई पुलिस ने भी आते ही अपना काम शुरू कर दिया था चारों तरफ घेराबंदी कर दी गई ...

    उलझन - 18 - अंतिम भाग
    by Amita Dubey

    उलझन डॉ. अमिता दुबे अठारह तब तक घर आ गया था। अंशिका अपने घर चली गयी। पापा ने गाड़ी मोड़कर आॅफिस के लिए निकलने से पहले सौमित्र से कहा ...

    मुक्म्मल मोहब्बत - 8
    by Abha Yadav

        मेरे दिमाग के सारे चेनलों में बस एक ही नाम की धूम मची थी-मधुलिका.... मधुलिका... मधुलिका. वह मेरे दिलोदिमाग में इस कदर हाबी थी कि नींद में ...

    प्रेत-छाया
    by Deepak sharma

    प्रेत-छाया ‘माई आइज मेक पिक्चर्स वेन दे आर शट,’ (मेरी आँखें चित्र बनाती हैं जब वे बंद होती हैं) कोलरिज ने एक जगह कहा था| वे चित्र किस काल ...

    જીદ કરો અને દુનિયા બદલો. (जेफ बेजोस बेहतर कहानी)
    by Mulani Vijay

    तैयारी : 20 उत्पादों की सूची बनाई, खुद से सवाल किया- अाखिर शुरुआत कैसी होनी चाहिए?भरोसा : अच्छी नौकरी छोड़ी, मन की सुनीउस समय सबसे बड़ा सवाल था कि इंटरनेटपर ...

    मिशन सिफर - 1
    by Ramakant Sharma

    मिशन सिफर डा. रमाकांत शर्मा   समर्पण जाने-माने रंगकर्मी एवं साहित्यकार प्रिय मित्र श्री रमेश राजहंस को जिन्होंने यह उपन्यास लिखने के लिए मुझे प्रेरित किया   अपनी बात ...

    इश्क वाला️ LOVE - भाग 2
    by Sunil Gupta

    देव लगड़ाते हुए घर पहुचा अरे क्या हुआ , चोट कैसे लग गयी दिव्यांश बेटे ,देव को लगड़ाते हुए देख कर देव की मम्मी ने कहा कुछ नही मम्मी ...

    चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा - 6
    by Suraj Prakash

    चार्ल्स डार्विन की आत्मकथा अनुवाद एवं प्रस्तुति: सूरज प्रकाश और के पी तिवारी (6) मेरे विवाह, (जनवरी 29, 1839), और अपर गॉवर स्ट्रीट में रहने से लेकर 14 सितम्बर ...

    यादों की बारात
    by S Sinha

                                                 कहानी -   यादों की बारात    एक लम्बे अंतराल के बाद राज पटना आया था  . लगभग बीस साल पहले पटना के इंजीनियरिंग कॉलेज से पढ़ाई पूरी ...

    कामनाओं के नशेमन - 12
    by Husn Tabassum nihan
    • 84

    कामनाओं के नशेमन हुस्न तबस्सुम निहाँ 12 ‘‘मैं जा रहा हूँ मेडिकल कॉलेज।‘‘ अमल ने बहुत तेजी के साथ कहा। ‘‘कैसे जाएंगे आप...? उन्होने थोड़ा ठिठकते हुए कहा- ‘‘इस ...

    The Last Murder - 11
    by Abhilekh Dwivedi
    • 87

    The Last Murder … कुछ लोग किताबें पढ़कर मर्डर करते हैं । अभिलेख द्विवेदी Chapter 11: "अपना टाइमलाइन देख लेना । किसी रंजीत का मर्डर हुआ है । उसने ...

    शैतान का कुरियर - 1
    by Kirtipalsinh Gohil
    • 213

    डिंग डोंग.. . टिंग टोंग.. . ( डोर बेल बजती है )रात के तकरीबन ११ बज रहे है। रवि घर में क्रिकेट मैच देखने में मशगूल था की तभी ...

    बाजार में रामधन - कैलाश बनवासी
    by राज बोहरे
    • 78

    कैलाश वनवासी का कथा संग्रह                                               भौंचक खडे रामधन और बाजार में बदलता समाज                                                                   पुस्तक समीक्षा- राजनारायण बोहरे     कथा संग्रह- बाजार में रामधन  कहानीकार- क

    अनकहा अहसास - अध्याय - 11
    by Bhupendra Kuldeep
    • 165

    अध्याय - 11उसने शेखर को फोन लगाया। हैलो शेखर।ओ हैलो अनुज। इतनी रात गए फोन कैसे किया। अरे यार एक काम रमा को बताना था। परंतु उसका फोन स्वीच ऑफ आ ...

    बात बस इतनी सी थी - 27
    by Dr kavita Tyagi
    • 207

    बात बस इतनी सी थी 27. घर लौटकर मैंने माता जी को ऑफिस में रखे हुए प्रॉपर्टी पेपर से संबंधित सारी बातें बतायी । माता जी बोली - "तू ...

    कविता संग्रह भाग 6th
    by Prahlad Pk Verma
    • 42

    ???????????????कविता 1st हाँ मुझे पसंद हैं ????????????उसका मुझे देख बार बार मुस्कुरानाबिन कहे ही बहुत कुछ कह जानाहां मुझे पसंद हैउसका बार बार मेरी गली में आनाफिर मेरे घर आकर मुझसे ...

    ये कैसा संन्यास - सीजन - 2 भाग -17
    by Neerja Pandey
    • 99

    आपने अभी तक पढ़ा की अनमोल हॉस्टल छोड़ करअपने ही बैच के योगेश के साथ शिफ्ट हो गया। जब परीक्षा खत्म होने के बाद भी अनमोल नहीं आयातो अरविंद जी ...

    अनफॉरट्यूनेटली इन लव (संस्थापक) - 11
    by Veena
    • 111

     वह ... एक फल-स्वाद कैंडी प्रेमी था? "तुम्हे ये स्वाद पसंद नहीं है?"  गन ने अपना धैर्य बनाए रखने के लिए जितना संभव हो सके, कोशिश की।  अपनी जेब से ...

    एक पाँव रेल में: यात्रा वृत्तान्त - 10
    by रामगोपाल तिवारी
    • 63

    एक पाँव रेल में: यात्रा वृत्तान्त 10         10 नासिक दर्शन   हमारे भारतीय परिवेश में कुम्भ यात्रा का बड़ा महत्व है। राष्ट्रिय एकता के रूप ...

    बोनसाई के जंगल
    by Rita Gupta
    • 258

    बोनसाई के जंगल   new   द्वारा रीता गुप्ता       रूही आज फिर फंस गई थी बोनसाई के जंगलों में। प्यास से उसका गला सूख रहा था, रूही ताजी हवा के लिए तरस रही ...

    दिल से दिल तक... - 12
    by Komal Talati
    • 120

                                      ( १२ ) ' माँ कोन थे वह...? ' ' पता नही बेटा, मे नही जानती उन्हे, वो तो अचानक भागते हुए आए थे, क्यूकि उनके पीछे एक ...

    हंसता क्यों है पागल - 1
    by Prabodh Kumar Govil
    • 180

    कुछ दिन पहले शाम को पार्क में अपने साथी सीनियर सिटीजंस के साथ टहल कर गप्पें लड़ाते समय पड़ौस में रहने वाले एक साथी ने बताया कि आज तो ...

    शम्बूक - 24
    by ramgopal bhavuk
    • 45

    उपन्यास :     शम्बूक  24             रामगोपाल भावुक  सम्पर्क सूत्र-      कमलेश्वर कॉलोनी (डबरा) भवभूति नगर, जिला ग्वालियर म.प्र. 475110          मो 0 -09425715707       Email-tiwari ramgopal 5@gmai.com   ...

    29 Step To Success - 12
    by Wr.MESSI
    • 168

    Chapter - 12One Day You GetResults of Patience.सब्र का फल एक दिनजरुर मिलता है।धैर्य किसी भी गुणी व्यक्ति में एक प्रभावशाली गुण है, जो उसे संकट से आसानी से ...

    16 WAYS - Impossible To Possible - 4
    by KIRTI YADAV
    • (14)
    • 150

                    ❁ CHAPTER - 4 ❁            You Do Not Encourage               Your ...

    360 डिग्री का कोण
    by Sneh Goswami
    • 138

      360 डिग्री का कोण    मैं प्लेटफार्म पर खड़ी अपनी ट्रेन का इंतजार कर रही थी । गाड़ी करीब दो घंटे लेट थी और हमे यहाँ खड़े डेढ़ ...