मैं मनिष कुमार "मित्र" व्यवसाय से दर्जी हुं . मुझे गजले शेरों शायरी कविताएं और अर्थ पूर्ण कहानिया पढने का शौखीन हुं.और लिखने का भी शौख है.अधिकतर कविताएं लिखता हुं.आप सबसे अनुरोध हैं की मेरी रचनाओ को पढकर आप कमेन्ट जरुर किजीऐ और मुझे उत्साहीत और प्रोत्साहित किजीऐ . आप सब का स्नेह अपनापन आत्मियता और साथ सहकार जरुर दिजीऐ ताकी मेरा यह सफर हसीन और उत्साहवर्धक बन सके. हार्दिक धन्यवाद

    • 663
    • 762
    • (11)
    • 834
    • 990